क्विकर एप पर गाड़ी बेचने का झांसा देकर ठगे 1.45 लाख रूपए, गैंग का एक सदस्य गिरफ्तार


जयपुर. शहर पुलिस कमिश्नरेट की साइबर थाना पुलिस की टीम ने गुरूवार को क्विकर एप पर वाहन बेचने का झांसा देकर करीब 1.45 लाख रूपए की ठगी करने वाली गैंग का खुलासा किया है। मामले में पुलिस ने गैंग के एक आरोपी को गिरफ्तार कर लिया। एडिशनल पुलिस कमिश्नर (प्रथम) अशोक कुमार गुप्ता ने बताया कि गिरफ्तार आरोपी शाकुल खान पुत्र जोम खान है। वह अलवर जिले में रामगढ़ तहसील के गांव बगड़ मेव का रहने वाला है।


उसे गुरूवार को कोर्ट में पेश कर एक दिन के रिमांड पर लिया है। उसके कब्जे से एक मोबाइल फोन व दो सिम कार्ड बरामद किए है। उससे पूछताछ कर गैंग के साथियों और अन्य वारदातों के बारे में पता लगाया जा रहा है। जानकारी के अनुसार इस संबंध में जगतपुरा निवासी विनोद खुड़ानिया नाम के व्यक्ति ने 9 अगस्त 2019 को साइबर थाने में केस दर्ज करवाया था। जिसमें बताया कि उसने रॉयल इनफिल्ड मोटर साइकिल का विज्ञापन क्विकर वेब एप पर देखा था।


पीड़ित ने बताया कि क्विकर एप पर सस्ती बाइक बेचने का विज्ञापन देखकर संपर्क किया तो आरोपियों ने अलग-अलग चार्जेज के झांसे देकर डेढ़ लाख रुपए ऑनलाइन जमा करवा लिए। तब थानाप्रभारी सुरेंद्र पंचोली के नेतृत्व में पुलिस ने जांच शुरु की। इसमें शामिल सबइंस्पेक्टर उर्मिला व अन्य पुलिसकर्मियों ने मोबाइल कॉल डिटेल, एप और अन्य खातों की जानकारी जुटाई। जिसमें आरोपी की लोकेशन अलवर की आई। तब वहां से बुधवार रात को गिरफ्तार कर लिया।



- ऐसे करते है ठगी: थानाप्रभारी सुरेंद्र पंचोली के मुताबिक आरोपी से पूछताछ में सामने आया कि इनकी गैंग सस्ती बाइक, मोबाइल आदि बेचने के विज्ञापन बनाकर क्विकर जैसी सोशल एप पर अपलोड करते है। जिसे देखकर लोग जैसे ही उसे खरीदने के लिए संपर्क करते है तो उनसे अलग-अलग चार्जेज बताकर पैसे वसूलने के बाद फोन स्विच ऑफ कर लेते है।