मौत से हार गई उन्नाव की बेटी, पिता बोले- दरिंदों को मारो गोली


उन्नाव
उत्तर प्रदेश के उन्नाव में जमानत पर बाहर आए आरोपियों द्वारा जिंदा जलाई गई रेप पीड़िता ने शुक्रवार रात दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में दम तोड़ दिया।हालत लगातार बिगड़ने के बाद गुरुवार देर शाम पीड़िता को एयरलिफ्ट कर दिल्ली लाया गया था। पीड़िता के शव को पोस्टमॉर्टम के बाद लखनऊ के रास्ते से उन्नाव लाया जाएगा। इस बीच बेटी की मौत की खबर से रेप पीड़िता के पिता सदमे में हैं। उन्होंने कहा कि उनकी बेटी के गुनहगारों का हैदराबाद गैंगरेप के आरोपियों जैसा एनकाउंटर कर दिया जाना चाहिए।


हमें हैदराबाद जैसा इंसाफ मिले'
रेप पीड़िता के पिता ने कहा कि उनकी बेटी के गुनहगारों को कड़ी से कड़ी सजा दिए जाने की जरूरत नहीं है। हैदराबाद में जो कांड हुआ है, वही सजा मिले। या फिर दौड़ाकर गोली मारी जाए। या फिर फांसी दी जाए। उन्होंने कहा, 'मेरी बेटी को आरोपियों ने पेट्रोल डालकर जलाया। पुलिस उसे सुमेरपुर अस्पताल ले गई। वहां से उसे उन्नाव और फिर दिल्ली रिफर कर दिया गया। उससे फोन पर बात हुई थी। कल फोन किया था, तो उसने बस इतना कहा था कि- सांस चल रही है। मैं समझ गया था कि अब वह नहीं बचेगी। शुक्रवार रात 11.40 पर उसने दम तोड़ दिया। पुणे में मेरे दामाद ने फोन पर मुझे इसकी खबर दी।'


'फांसी दी जाए या फिर एनकाउंटर किया जाए'
रेप पीड़िता के पिता ने कहा, 'आरोपियों को गिफ्तार कर लेने से क्या होगा। यह तो ऐसे है जैसे जानवरों को जेल में बंद कर दिया। मेरा कहना है कि उनको फांसी दी जाए या फिर एनकाउंटर किया जाए। मुझे दूसरा कोई रास्ता नहीं सूझता। मेरी यूपी के मुख्यमंत्री से मांग है कि एनकाउंटर करवाएं या फिर फांसी दी जाए।'


हमारे साथ इंसाफ नहीं हुआ'
इस बीच रेप पीड़िता की बहन ने कहा है कि उनके साथ इंसाफ नहीं हुआ। मीडिया से बात करते हुए उन्होंने कहा, 'इस मामले में मुजरिमों को सख्त से सख्त सजा दी जाए। हमारे साथ न्याय नहीं हुआ। पुलिस ने समय पर रिपोर्ट भी नहीं लिखी। हमसे यहां पर कोई मिलने नहीं आया है।'

भाई ने कहा- फांसी पर लटकाया जाए
रेप पीड़िता के भाई ने मांग की है कि आरोपियों को मौत से कम की सजा नहीं मिलनी चाहिए। पीड़िता के भाई ने कहा, 'मेरे पास कहने को कुछ नहीं बचा है। मेरी बहन अब हमारे बीच नहीं है। मेरी इकलौती मांग यह है कि सभी पांच आरोपियों को कम से कम फांसी की सजा हो।'


लगातार परिवार को धमका रहे थे आरोपी'
अस्पताल में बेटी की मौत के बाद उन्नाव रेप विक्टिव के पिता ने कहा, 'आरोपी लगातार हमारे परिवार को धमका रहे थे। वे गालियां दे रहे थे, कहते थे मार डालेंगे, जला डालेंगे, पूरे परिवार को बर्बाद कर देंगे।' बता दें कि करीब 40 घंटे तक इलाज के बाद रेप पीड़िता ने दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में अंतिम सांसें लीं।


रात 11.40 पर रेप पीड़िता की मौत
सफदरजंग अस्पताल के बर्न एवं प्लास्टिक सर्जरी विभाग के प्रमुख डॉ. शलभ कुमार ने बताया, 'हमारे बेहतर प्रयासों के बावजूद पीड़िता को बचाया नहीं जा सका। शाम को उसकी हालत खराब होने लगी। रात 11.10 बजे उसे कार्डिएक अरेस्‍ट आया। हमने इलाज शुरू किया और उसे बचाने की पूरी कोशिश की पर 11 बजकर 40 मिनट पर उसकी मौत हो गई।' पीड़िता के शव को पोस्‍टमॉर्टम के लिए भेज दिया गया है।


पुलिस गिरफ्त में हैं पांचों आरोपी
बता दें कि उन्नाव के बिहार थाना इलाके में रेप पीड़िता (20) को गुरुवार तड़के पांच लोगों ने जिंदा जला दिया था। घटना में शामिल सभी पांचों आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया है। पीड़िता ने थाने में शिकायत कर बताया था कि शिवम त्रिवेदी नाम के शख्स ने उसे प्रेमजाल में फंसाया और फिर रायबरेली ले जाकर रेप किया।


विडियो वायरल करने की धमकी देकर रेप
पीड़िता ने आरोप लगाया था कि त्रिवेदी ने मोबाइल में उसका विडियो बना लिया था। विडियो वायरल करने की धमकी देकर वह लगातार रेप करता रहा। युवती ने कहा कि शिवम ने कई शहरों में ले जाकर उसके साथ रेप किया। पीड़िता ने शादी के लिए दबाव बनाया लेकिन शिवम नहीं माना। युवती को जलाने वाले एक अन्‍य आरोपी ने भी उससे रेप किया था जो कुछ दिन पहले ही जमानत पर बाहर आया था।


Popular posts
स्कूली दिनों के तीन दोस्तों के हाथ में जल, थल और नभ.. की सुरक्षा की कमान
Image
जिला प्रशासन की शेयरिंग-केयरिंग हेल्पलाइन निभा रही है बेटे जैसा फर्ज लॉकडाउन में बन रही है बुजुर्गो के बुढ़ापे की लाठी
Image
भारत-चीन में हुई लेफ्टिनेंट जनरल लेवल बातचीत
Image
 स्पेशल फ्लाइट: सरकार को फटकार / मिडिल सीट भरने पर सुप्रीम कोर्ट ने कहा- सरकार को एयरलाइंस की बजाय लोगों की सेहत की चिंता करनी चाहिए
Image
रेलवे की बेदर्द अपील- श्रमिक ट्रेनों में गर्भवती महिलाएं, बच्चे सफर न करें; सवाल- क्या इन ट्रेनों में लोग सैर पर निकले हैं? बच्चों और महिलाओं को छोड़कर मजदूर घर कैसे लौटेंगे?
Image