जानलेवा इलाज: कोरोना से बचने को बनाई 'घरेलू दवाई', पीकर मौत


नई दिल्ली
कोरोना के डर से कुछ लोग रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए खुद ही नए-नए प्रयोग कर रहे हैं। चेन्नै के एक आयुर्वेदिक फार्मासिस्ट और एक कंपनी में प्रॉडक्शन मैनेजर ने भी कोरोना से बचने का एक ऐसा ही प्रयोग किया। उन्होंने एक आयुर्वेदिक दवा तैयार की और खुद ही उसे पी लिया। दवा पीते ही उनकी मौत हो गई।

47 साल के फार्मासिस्ट के. सिवानेसन चेन्नै के सुजाता बायोटेक में काम करते थे। कंपनी का एक प्लांट उत्तराखंड के काशीपुर में है और वह वहीं काम करते थे। लॉकडाउन के चलते वह चेन्नै में ही फंस गए। वहां उन्होंने एक केमिकल से दवाई तैयार की। यह एक पाउडर था। इसे पहले उन्होंने अपनी कंपनी के मैनेजिंग डायरेक्टर को पीने के लिए दिया। इसे पीते ही वह बेहोश हो गए। इसके बाद सिवानेसन ने खुद को पाउडर को पानी में मिलाकर पी लिया।


बेहोश होने पर उन्हें फौरन अस्पताल ले जाया गया, जहां डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया। पुलिस ने पोस्टमॉर्टम के बाद केस दर्ज कर लिया है। बताया जा रहा है कि इससे पहले भी सिवानेसन कई दवाइयों का फॉर्म्युला तैयार कर चुके थे। 
सीनियर को भी पिलाई दवा
सिवानेसन ने तथाकथित दवाई बनाकर पहले अपनी कंपनी के सीनियर अधिकारी को पिलाई। दवा पीकर वह बेहोश हो गए थे। इसके बाद उन्होंने खुद उस दवा को पी लिया। उन्हें अस्पताल ले जाया गया जहां उन्हें मृत घोषित कर दिया गया। 


Popular posts
धर्म स्थल खोलने के लिए जिला कलेक्टर की अध्यक्षता में बनेगी कमेटी -मुख्यमंत्री ने की धर्म गुरू, संत-महंत एवं धार्मिक संगठनों के प्रतिनिधियों से विस्तृत चर्चा
Image
कोटा के निजी अस्पताल में भर्ती 17 साल के लड़के की रिपोर्ट आई पॉजिटिव, इसके संपर्क में आए 5 लोगों के सैंपल लिए
Image
 चूरू में कोरोना / 5 साल के बच्चे समेत 10 नए पॉजिटिव मिले, इनमें 8 प्रवासी, कुल आंकड़ा 152 पर पहुंचा
Image
नहर में मिला अज्ञात युवक का शव, पानी से बाहर निकालने से लेकर मोर्चरी में बर्फ लगाकर रखने तक का कार्य पुलिस ने ही किया
Image
राजस्थान में कोरोना की रफ्तार / पहले 78 दिनों में आए 5 हजार केस, अब 20 दिन में ही 10 हजार के पार पहुंचा आंकड़ा
Image