बैंकों को लगेगा एक और बड़ा झटका? एयर इंडिया का आधा कर्ज माफ कर सकती है सरकार


नई दिल्ली
वित्तीय संकट से जूझ रही सरकारी विमानन कंपनी एयर इंडिया के खरीदारों को लुभाने के लिए केंद्र सरकार कंपनी पर आधे से अधिक कर्ज को माफ करने पर विचार कर रही है। मामले की जानकारी रखने वाले सूत्रों ने यह जानकारी दी। एयर इंडिया पर लगभग 55 हजार करोड़ रुपये का कर्ज है।


ब्लूमबर्ग की एक रिपोर्ट के मुताबिक, पहचान जाहिर न करने की शर्त पर सूत्रों ने बताया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सरकार ने योजना बनाई है कि वह प्रस्तावित निवेशकों को कंपनी का 30,000 करोड़ रुपये के कर्ज का भार अपने ऊपर लेने को कहेगी। सरकार कंपनी को बेचने के लिए एक्सप्रेशन ऑफ इंट्रेस्ट 15 दिसंबर को जारी कर सकती है।


पिछले साल कंपनी के लिए कोई खरीदार ढूंढने में नाकाम रही मोदी सरकार टैक्स कलेक्शन में आई कमी तथा 20 अरब डॉलर के कॉरपोरेट टैक्स में कटौती से राजकोषीय घाटे में बढ़ोतरी को पाटने के लिए कंपनी को जल्द से जल्द बेचने की इच्छुक है। पिछले सप्ताह, केंद्र सरकार ने देश की दूसरी सबसे बड़ी सरकारी रिफाइनर कंपनी तथा अपनी सबसे बड़ी शिपिंग कंपनी को बेचने का फैसला किया है।


सूत्रों ने कहा कि एयर इंडिया को खरीदने के लिए कोई कंपनी तभी आगे बढ़ेगी, जब सरकार उसके कर्ज को माफ करेगी। कंपनी को बंद होने से बचाने के लिए पिछले एक दशक में 56,000 करोड़ रुपये का निवेश किया जा चुका है। वित्त मंत्रालय के किसी प्रवक्ता ने इस मामले पर तत्काल कोई टिप्पणी नहीं की है।


एयर इंडिया ऐसेट होल्डिंग्स लिमिटेड (AIAHL) बॉन्ड इश्यू लाएगी, जो एक स्पेशल परपज वीइकल है। एयर इंडिया का 30 हजार करोड़ रुपये का कर्ज इस कंपनी को ट्रांसफर किया गया है। एआईएएचएल विमानन कंपनी की संपत्तियों को बेचकर 10 हजार करोड़ रुपये जुटा सकती है। 


Popular posts
क्या सुहागरात पर होने वाला सेक्स सहमति से होता है?
Image
ग्राम विकास अधिकारी को झूठी सूचना देना पडा भारी-पंचायती राज विभाग भीण्डर  ने दिये एक वार्षिक वेतन वृद्धि रोकने के आदेश
Image
योनि में डालने से पहले हम डिल्डो पर थूकते हैं, क्या कोराना वायरस फैलने का खतरा है?
Image
नहर में मिला अज्ञात युवक का शव, पानी से बाहर निकालने से लेकर मोर्चरी में बर्फ लगाकर रखने तक का कार्य पुलिस ने ही किया
Image
धर्म स्थल खोलने के लिए जिला कलेक्टर की अध्यक्षता में बनेगी कमेटी -मुख्यमंत्री ने की धर्म गुरू, संत-महंत एवं धार्मिक संगठनों के प्रतिनिधियों से विस्तृत चर्चा
Image