गहलोत बोले- राज्यपाल ने भाजपा के साथ मिलकर काम किया, उन्हे पद पर रहने का कोई अधिकार नहीं


जयपुर. महाराष्ट्र में शनिवार सुबह बड़ा सियासी उलटफेर पर राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने ट्वीट कर अपनी प्रतिक्रिया दी। उन्होंने लिखा कि महाराष्ट्र से जो जानकारी आ रही है, वही चौकाने वाली है। राज्यपाल ने भाजपा के साथ मिलकर काम किया। एनसीपी विधायकों के हस्ताक्षरों को सत्यापित किए बिना देवेंद्र फडणवीस जी को पद की शपथ दिलाई। राज्यपाल को नैतिक आधार पर इस्तीफा देना चाहिए। उन्हे पद पर बने रहने का कोई अधिकार नहीं है।गहलोत ने लिखा कि महाराष्ट्र में जो हुआ वह छिपकर करने की क्या आवश्यकता थी, इस प्रकार अचानक राष्ट्रपति शासन का हटना और इस प्रकार शपथ दिलाना कौनसी नैतिकता है? ये लोग देश में लोकतंत्र को किस दिशा में ले जा रहे हैं? समय आने पर देशवासी इसका जवाब देंगे और बीजेपी को सबक सिखाएंगे।


इस माहौल में फडणवीस मुख्यमंत्री के रूप में कामयाब हो पाएंगे, यह डाउटफुल है। सीएम और डिप्टी सीएम दोनों ने गिल्टी कॉन्शियस होकर शपथ ली है वे गुड गवर्नेंस दे पाएंगे इसमें संदेह है जिसका नुकसान महाराष्ट्र की जनता को होगा।


Popular posts
ग्राम विकास अधिकारी को झूठी सूचना देना पडा भारी-पंचायती राज विभाग भीण्डर  ने दिये एक वार्षिक वेतन वृद्धि रोकने के आदेश
Image
योनि में डालने से पहले हम डिल्डो पर थूकते हैं, क्या कोराना वायरस फैलने का खतरा है?
Image
क्या सुहागरात पर होने वाला सेक्स सहमति से होता है?
Image
नहर में मिला अज्ञात युवक का शव, पानी से बाहर निकालने से लेकर मोर्चरी में बर्फ लगाकर रखने तक का कार्य पुलिस ने ही किया
Image
धर्म स्थल खोलने के लिए जिला कलेक्टर की अध्यक्षता में बनेगी कमेटी -मुख्यमंत्री ने की धर्म गुरू, संत-महंत एवं धार्मिक संगठनों के प्रतिनिधियों से विस्तृत चर्चा
Image