मध्य प्रदेश: पहले गैर कांग्रेसी सीएम रहे कैलाश जोशी का निधन, पीएम मोदी ने भी जताया दुख


भोपाल
भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता और मध्य प्रदेश के पूर्व सीएम कैलाश जोशी का रविवार को लंबी बीमारी के बाद निधन हो गया। कैलाश जोशी लंबे वक्त से भोपाल के एक प्राइवेट अस्पताल में अपना इलाज करा रहे थे और रविवार सुबह उनकी तबीयत ज्यादा बिगड़ गई थी। इसके बाद करीब साढ़े 11 बजे जोशी का निधन हो गया। कैलाश जोशी के निधन पर पीएम नरेंद्र मोदी ने भी उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की।
कैलाश जोशी के निधन के बाद पीएम नरेंद्र मोदी ने अपने ट्वीट में लिखा,'कैलाश जोशी वह शख्स थे जिन्होंने मध्य प्रदेश के विकास में प्रमुख योगदान दिया। उन्होंने जनसंघ और भारतीय जनता पार्टी को मध्य भारत में और सशक्त बनाने की दिशा में बड़ी भूमिका निभाई और एक प्रभावी विधायक के रूप में खुद को स्थापित किया। मैं उनके निधन की खबर से दुखी हूं। उनके परिवार और समर्थकों के प्रति मेरी संवेदना है। ऊं शांति।'


मध्य प्रदेश के सीएम रहे कैलाश जोशी
कैलाश जोशी मध्य प्रदेश में भारतीय जनता पार्टी के प्रमुख नेताओं में से एक थे। वह जनसंघ के संस्थापक सदस्य रहे और साल 1955 में पहली बार हाटपीपल्या नगरपालिका के अध्यक्ष बनाए गए थे। 14 जुलाई 1929 में जन्में कैलाश जोशी 1952 में भारतीय जनसंघ की स्थापना के दौरान पार्टी के संस्थापक सदस्य भी रहे थे। 1972 से 1977 तक जोशी मध्य प्रदेश विधानसभा के नेता प्रतिपक्ष रहे और 26 जून 1977 को उन्हें राज्य की गैर कांग्रेस सरकार का सीएम बनाया गया था। हालांकि स्वास्थ्य कारणों से जोशी जनवरी 1978 में इस्तीफा दे दिया।

दिग्विजय सिंह के भाई के खिलाफ लड़ा चुनाव
कैलाश जोशी ने 1998 में एमपी के तत्कालीन सीएम दिग्विजय सिंह के भाई लक्ष्मण सिंह के खिलाफ चुनाव लड़ा, लेकिन जीत ना सके। बाद में जोशी को बीजेपी की ओर से राज्यसभा भेजा गया। 2002 में कैलाश जोशी एमपी बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष बने। इसके बाद 2004 में वह भोपाल के सांसद बने और 2014 तक इस सीट पर उनका कब्जा रहा।


Popular posts
क्या सुहागरात पर होने वाला सेक्स सहमति से होता है?
Image
ग्राम विकास अधिकारी को झूठी सूचना देना पडा भारी-पंचायती राज विभाग भीण्डर  ने दिये एक वार्षिक वेतन वृद्धि रोकने के आदेश
Image
नहर में मिला अज्ञात युवक का शव, पानी से बाहर निकालने से लेकर मोर्चरी में बर्फ लगाकर रखने तक का कार्य पुलिस ने ही किया
Image
 तब्लीगी जमात का मामला / केंद्र सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में कहा- सीबीआई जांच की जरूरत नहीं, समय पर रिपोर्ट पेश की जाएगी
Image
कोटा के निजी अस्पताल में भर्ती 17 साल के लड़के की रिपोर्ट आई पॉजिटिव, इसके संपर्क में आए 5 लोगों के सैंपल लिए
Image