पुलिस की पहरेदारी में टैरिफ की सुनवाई, जनता व व्यवसायियों की विनियामक आयोग से बिजली रेट नहीं बढ़ाने की अपील


जयपुर। राजस्थान विद्युत विनियामक आयोग ने बुधवार को बिजली टैरिफ को लेकर तीसरे दिन जयपुर डिस्कॉम से जुड़े उपभोक्ताओं की अपीलों की सुनवाई शुरू की, लेकिन इस दौरान कुछ लोगों ने ऑडिटोरियम के बाहर हंगामा कर दिया। इसके बाद दुर्गापुरा स्थित कृषि अनुसंधान केंद्र के ऑडिटोरियम के बाहर भारी संख्या में पुलिस फोर्स लगानी पड़ी।


आम जनता, होटल एसोसिएशन व व्यवसायियों ने विनियामक आयोग से बिजली रेट नहीं बढ़ाने की अपील की है तथा जयपुर डिस्कॉम सहित अन्य बिजली कंपनियों के सिस्टम में सुधार व खर्चा कम करवाने की गुहार की है ताकि उपभोक्ताओं पर अनावश्यक टैरिफ का भार नहीं डाला जा सके।


गौरतलब है कि विद्युत विनियामक आयोग ने 18 नवंबर को जोधपुर व 19 नवंबर को अजमेर डिस्कॉम की सुनवाई कर चुका है। अब गुरुवार व शुक्रवार को जयपुर डिस्कॉम के उपभोक्ताओं से सुनवाई कर रहा है। जोधपुर डिस्कॉम में 876, जयपुर डिस्कॉम में 460 व अजमेर डिस्कॉम के 465 लोग व संस्थाओं की आपत्ति है।


विरोध नहीं किया तो 25 फीसदी तक बढ़ेगी टैरिफ


घरेलू बिजली रेट : 1.55 रुपए प्रति यूनिट तक बढ़ोत्तरी प्रस्तावित है। ऐसे में करीब 24.20 फीसदी तक बिजली बिल बढ़ सकता है। हालांकि 300 यूनिट तक बिजली खर्च करने वालों की रेट केवल 15 फीसदी तक ही बढ़ेगी।



अघरेलू टैरिफ : प्रस्तावित टैरिफ में अघरेलू उपभोक्ताओं को 1.75 रुपए प्रति यूनिट तक बिजली रेट बढ़ाने का प्रस्ताव है। यानि बिल में 23 फीसदी तक बढ़ोत्तरी होगी।