पुराने कानून से कैसे अलग है SPG संशोधन बिल, 2019


नई दिल्ली
गृह मंत्री ने अमित शाह ने 25 नवंबर को लोकसभा में स्पेशल प्रॉटेक्शन ग्रुप (अमेंडमेंट) बिल, 2019 पेश किया। यह विधेयक स्पेशल प्रॉटेक्शन ग्रुप ऐक्ट, 1988 में संशोधन के लिए लाया गया है। यह कानून स्पेशल प्रॉटेक्शन ग्रुप (एसपीजी) को प्रधानमंत्री, पूर्व प्रधानमंत्रियों और उनके बेहद करीबी पारिवारिक सदस्यों को सुरक्षा प्रदान करने का नियम-कायदा बताता है।
परिवार को 1 वर्ष तक सिक्यॉरिटी
इस कानून के तहत एसपीजी प्रधानमंत्री और उनके बेहद करीबी पारिवारिक सदस्यों को सुरक्षा मुहैया कराई जाती है। इसके तहत प्रधानमंत्री जब पद छोड़ते हैं तो उनके पद छोड़ने के दिन से एक वर्ष तक उनके बेहद करीबी पारिवारिक सदस्यों को भी एसपीजी कवर मिलता है। पद से हटने के एक वर्ष के बाद उनके लिए खतरे के स्तर के आधार पर एसपीजी सिक्यॉरिटी दी जाती है। इसका फैसला केंद्र सरकार करती है। सरकार दो पैमानों पर यह फैसला लेती है- पहला, किसी मिलिट्री या आतंकवादी संगठन से ही जान का खतरा हो और दूसरा, खतरा बेहद गंभीर और लगातार बने रहने की प्रकृति का हो।
संशोधन प्रस्ताव में 5 वर्ष की अवधि
संशोधन विधेयक में कहा गया है कि प्रधानमंत्रियों और उनके उन्हीं पारिवारिक सदस्यों को एसपीजी सिक्यॉरिटी दी जाएगी जो प्रधानमंत्री के साथ प्रधानमंत्री आवास में रहते हैं। विधेयक में प्रस्ताव किया गया है कि पूर्व प्रधानमंत्रियों और उन्हें आवंटित सरकारी में रहने वाले उनके साथ रहने वाले पारिवारिक सदस्यों को प्रधानमंत्री का पद त्यागने के दिन से पांच वर्ष तक मिलती रहेगी।
पुराना कानून
पुराने कानून में कहा गया है कि अगर किसी पूर्व प्रधानमंत्री से एसपीजी सिक्यॉरिटी वापस ली गई तो उनके पारिवरिक सदस्यों के साथ भी एसपीजी नहीं रहेगी। बशर्ते पारिवारिक सदस्यों को उस स्तर का खतरा नहीं हो जिसके लिए एसपीजी सिक्यॉरिटी जरूरी हो।
नया प्रावधान
अब प्रस्ताव यह शर्त हटा लिया गया है और पूर्व प्रधानमंत्रियों से एसपीजी सिक्यॉरिटी वापस लेने के बाद उनके पारिवारिक सदस्यों से भी एसपीजी की वापसी को अनिवार्य करने का प्रावधान कर दिया गया है।
गृह मंत्री ने क्या कहा?
कहा कि वह जो संशोधन लेकर आए हैं, उसके तहत एसपीजी सुरक्षा सिर्फ प्रधानमंत्री और उनके साथ उनके आवास में रहने वालों के लिए ही होगी तथा सरकार द्वारा आवंटित आवास पर रहने वाले पूर्व प्रधानमंत्री और उनके परिवार को 5 साल की अवधि तक एसपीजी सुरक्षा प्राप्त होगी।


Popular posts
क्या सुहागरात पर होने वाला सेक्स सहमति से होता है?
Image
ग्राम विकास अधिकारी को झूठी सूचना देना पडा भारी-पंचायती राज विभाग भीण्डर  ने दिये एक वार्षिक वेतन वृद्धि रोकने के आदेश
Image
नहर में मिला अज्ञात युवक का शव, पानी से बाहर निकालने से लेकर मोर्चरी में बर्फ लगाकर रखने तक का कार्य पुलिस ने ही किया
Image
 तब्लीगी जमात का मामला / केंद्र सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में कहा- सीबीआई जांच की जरूरत नहीं, समय पर रिपोर्ट पेश की जाएगी
Image
कोटा के निजी अस्पताल में भर्ती 17 साल के लड़के की रिपोर्ट आई पॉजिटिव, इसके संपर्क में आए 5 लोगों के सैंपल लिए
Image