सूरमाओं की लड़ाई में नजरें निर्दलीय और छोटी पार्टियों के 29 विधायकों पर


मुंबई
महाराष्ट्र की राजनीति रातों-रात ऐसी करवट बैठ गई कि शनिवार की सुबह राज्य के साथ ही पूरा देश हैरान रह गया। भारतीय जनता पार्टी ने एनसीपी के अजित पवार के साथ मिलकर सरकार तो बना ली है लेकिन अब उसके सामने चुनौती बहुमत साबित करने की है। पार्टी के नेता इस बात का दावा तो कर रहे हैं कि उनके पास 170 विधायक हैं लेकिन साथ ही यह कवायद भी चल रही है कि इन विधायकों, खासकर छोटी पार्टियों और निर्दलीय विधायकों का समर्थन साथ बना रहे।बहुमत के खेल में ये विधायक अहम कड़ी बन गए हैं। ऐसे में सवाल उठ रहा है कि इन विधायकों का साथ किस राजनीतिक दल को मिलेगा?


निर्दलीयों को अपने पाले में रखने की चुनौती
देवेंद्र फडणवीस ने राज्य के मुख्यमंत्री के तौर पर शनिवार सुबह शपथ ली। उनके पास 105 बीजेपी विधायकों, 54 एनसीपी विधायकों और 11 निर्दलीय विधायकों का समर्थन है। दिलचस्प यह देखना रहेगा कि बहुमत परीक्षण में छोटी पार्टियों और निर्दलीय उम्मीदवार के तौर पर जीते 29 विधायकों का समर्थन किसे मिलता है। दरअसल, शिवसेना का दावा है कि उसके पास ऐसे 7 विधायकों को समर्थन है। पार्टी के नेताओं का कहना है कि इस वक्त सभी निर्दलीय उम्मीदवारों को एकजुट रखना एक बड़ी जिम्मेदारी है।


एक-एक विधायक जरूरी
बीजेपी के एक नेता का कहना है, 'अगले कुछ दिन विधायकों की खरीद-फरोख्त की कोशिशें सभी ओर से की जाएंगी। विधायक नाजुक स्थिति में हैं और पाले बदल सकते हैं। यह जरूरी है कि उन पर निगरानी रखी जाए।' उन्होंने भारतीय शेतकरी कामगार पार्टी का उदाहरण देते हुए कहा कि बहुमत परीक्षण ऐसा होगा कि एक-एक संख्या जरूरी होगी। दरअसल, इस पार्टी ने कांग्रेस-एनसीपी के साथ गठबंधन में चुनाव लड़ा था लेकिन इसके इकलौते विधायक श्यामसुंदर शिंदे ने बीजेपी को समर्थन दिया।


किसको कितनी सीटें













































































पार्टीसीटें
भारतीय जनता पार्टी105
शिवसेना56
कांग्रेस44
एनसीपी54
एआईएमआईएम2
बहुजन विकास आघाडी3
सीपीआई (एम)1
निर्दलीय13
जन सुराज्य शक्ति1
क्रांतिकारी शेतकारी पार्टी1
महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना1
पीडब्ल्यूपीआई1
प्राहर जनशक्ति पार्टी2
राष्ट्रीय समाज पक्ष1
समाजवादी पार्टी2
स्वाभिमानी पक्ष1
कुल288


निर्दलीय विधायकों का रुख साफ
उधर, निर्दलीय विधायकों का दावा है कि वह उसी पार्टी को समर्थन देंगे जिसे पहले दे चुके हैं। बीजेपी की बागी नेता गीता जैन, जिन्होंने टिकट न मिलने पर मीरा-भाईंदर से निर्दलीय उम्मीदवार के तौर पर चुनाव लड़ा था, उनका कहना है कि वह बीजेपी को ही समर्थन देंगी। जैन ने कहा है, 'मैंने पहले ही बीजेपी को समर्थन दे दिया है और मैं अपना रुख कभी नहीं बदलूंगी क्योंकि मैं दिल से एक बीजेपी कार्यकर्ता हूं।' वहीं, प्रहार जनशक्त पार्टी के संस्थापक बाचू कुडू ने कहा है कि वह सेना के साथ हैं और रहेंगे। वह सेना के विधायकों के साथ ही ललित होटेल में हैं। उनकी पार्टी के विदर्भ से दो विधायक हैं।

ओवैसी की पार्टी किसके साथ?
इस सब के बीच एक पार्टी है जो इस रस्साकशी से एकदम दूर है। असदुद्दीन ओवैसी की AIMIM के दोनों विधायक विपक्ष में ही बैठने वाले हैं। वे न ही कांग्रेस-एनसीपी के साथ जाएंगे और न ही बीजेपी के साथ MIM के पूर्व विधायक वारिस पठान का कहना है, 'हमारे अध्यक्ष (ओवैसी) ने साफ कर दिया है कि हम विपक्ष में ही बैठेंगे। हमारा पक्ष वही है।'

कितना किसका दावा

राज्य की 288 सीटों में से 145 सीटें बहुमत के लिए जरूरी हैं। बीजेपी का दावा है कि उसके 105 विधायकों के अलावा उसके पास एनसीपी के पूरे 54 विधायकों का समर्थन है तो है, साथ ही 8 निर्दलीय विधायक भी उसके पाले में हैं। यानी कुल 167 विधायकों पर उसका दावा है। उधर, एनसीपी ने शनिवार को दावा किया है कि उसके पास उसके 49 विधायक अभी भी हैं। ऐसे में विपक्षी खेमे में शिवसेना के 56, एनसीपी के 49, कांग्रेस के 44 और 8 निर्दलीय विधायक माने जा रहे हैं।


Popular posts
 चूरू में कोरोना / 5 साल के बच्चे समेत 10 नए पॉजिटिव मिले, इनमें 8 प्रवासी, कुल आंकड़ा 152 पर पहुंचा
Image
भारत-चीन में हुई लेफ्टिनेंट जनरल लेवल बातचीत
Image
नहर में मिला अज्ञात युवक का शव, पानी से बाहर निकालने से लेकर मोर्चरी में बर्फ लगाकर रखने तक का कार्य पुलिस ने ही किया
Image
धर्म स्थल खोलने के लिए जिला कलेक्टर की अध्यक्षता में बनेगी कमेटी -मुख्यमंत्री ने की धर्म गुरू, संत-महंत एवं धार्मिक संगठनों के प्रतिनिधियों से विस्तृत चर्चा
Image
CAA के खिलाफ साम्प्रदायिक दंगा मामले में 5वीं चार्जशीट दाखिल, मुस्लिम भीड़ ने व्यक्ति को जिंदा जलाया
Image