ब्रिटेन में क्या है आम चुनाव की प्रक्रिया और कैसे बनती है सरकार, जानें सबकुछ


लंदन
ब्रिटेन में आज यानी गुरुवार को आम चुनाव हो रहे हैं। ब्रिटेन की दो बड़ी पार्टियां कंजरवेटिव और लेबर आमने सामने हैं। इस बार माना जा रहा है कि सरकार बनाने में भारतीय मूल के निवासियों की अहम भूमिका रहेगी। इस लिहाज से पार्टियों ने भी भारतीयों को विशेष तौर पर हिंदुओं को रिझाने में कसर नहीं छोड़ी। आइए जानते हैं कि ब्रिटेन में आम चुनाव किस तरह से कराए जाते हैं।
हाउस ऑफ कॉमन्स
भारत में जिस तरह से लोकसभा सांसद का चुनाव होता है उसी तरह ब्रिटेन में लोग हाउस ऑफ कॉमन्स के लिए अपने सांसद का चुनाव करते हैं। ब्रिटेन में कुल 650 संसदीय क्षेत्र हैं। इनमें से 533 क्षेत्र इंग्लैंड में, 59 स्कॉटलैंड में, 40 वेल्स में और18 नॉर्दर्न आयरलैंड में हैं।

कब होते हैं चुनाव
पार्ल्यामेंट ऐक्ट के मुताबिक ब्रिटेन में भी पांच साल के अंतर पर आम चुनाव होते हैं। इस हिसाब से अगला चुनाव 5 मई 2022 में होना था लेकिन ब्रेग्जिट को लेकर समीकरण कुछ इस तरह बने कि मध्यावधि चुनाव की घोषणा करनी पड़ी। पूर्व प्रधानमंत्री टरीजा में ने भी यूरोपीय संघ से अलग होने में कठोरता बनाने के लिए मध्यावधि चुनाव करवाए थे। टरीजा मे को चुनाव में बहुमत नहीं मिला और फिर बोरिस जॉनसन प्रधानमंत्री बने जुलाई में अल्पमत सरकार का कामकाज संभाला। लेबर पार्टी भी सरकार बनाने की स्थिति में नहीं थी।


चार साल में तीसरा आम चुनाव
कंजरवेटिव पार्टी यूरोपीय यूनियन से अलग होने के पक्ष में है। टरीजा मे ने बहुमत के लिए चुनाव करवाए लेकिन वह असफल रहीं। अब जॉनसन चाहते हैं कि उन्हे चुनाव में बहुमत मिले और वह ब्रेग्जिट का फैसला मजबूती से कर पाएं। उन्होंने अपने घोषणा पत्र में ब्रेग्जिट का जिक्र पहले नंबर पर किया है।

कैसे गठित होती है सरकार
आम तौर पर जिस पार्टी की सीटें ज्यादा होती हैं वही ब्रिटेन में सरकार बनाती है। भारत की तरह वहां भी कम सीटें जीतने पर भी पार्टी अन्य पार्टियों के साथ मिलकर अल्पमत सरकार बना सकती है। इसके बाद प्रधानमंत्री पद के लिए एक प्रतिनिधि चुना जाता है जो कि पहले से भी घोषित हो सकता है। प्रधानमंत्री विभिन्न विभागों के लिए प्रभारियों की नियुक्ति करता है और उनमें से ही वरिष्ठ लोग कैबनेट में शामिल होते हैं। प्रधानमंत्री का चयन महारानी करती हैं।

बड़ी पार्टियां
ब्रिटेन में मुकाबल कंजरवेटिव पार्टी और लेबर पार्टी के बीच है। इसके अलावा लिबरल डेमोक्रेट्स, स्कॉटिश नैशनल पार्टी भी मैदान में हैं। ज्यादातर ओपिनियन पोल में कंजरवेटिव पार्टी को आगे दिखाया गया है। ब्रिटेन में बहुमत का जादुई आंकड़ा 326 सीटों का है। सर्वेक्षणों में प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन को बढ़त मिलती दिख रही है।

कौन दे सकता है वोट?
भारत की ही तरह ब्रिटेन में भी 18 साल के ऊपर के वे लोग्य जिन्होंने अपना नाम मतदाता सूची में रजिस्टर कराया हो वोट डाल सकते हैं। 16 साल की आयु सीमा के बाद रजिस्ट्रेशन कराया जा सकता है, हालांकि वोट देने का अधिकार 18 साल की उम्र के बाद ही मिलता है। इसके लिए ब्रिटेन का नागरिक होना जरूरी है। कॉमनवेल्थ देशों और आयरलैंड के वे नागरिक जो ब्रिटेन में रहते हों, भी वोट दे सकते हैं।

अहम है भारतीयों की भूमिका
माना जा रहा है कि इस बार ब्रिटेन के भारतीय मूल के निवासियों का सरकार बनाने में अहम रोल होगा। यहां भारतीयों की बड़ी आबादी रहती है। कंजरवेटिव पार्टी हिंदुओं को भी रिझाने में सक्षम रही है। वहीं लेबर पार्टी ने कश्मीर पर भारत विरोधी बयान देकर हिंदुओं को अपने खिलाफ खड़ा कर लिया है। ब्रिटेन में कंजरवेटिव पार्टी ने 25 भारतीय मूल के उम्मीदवारों को मैदान में उतारा है वहीं लेबर ने 13 उम्मीदवारों को उतारा है।


Popular posts
धर्म स्थल खोलने के लिए जिला कलेक्टर की अध्यक्षता में बनेगी कमेटी -मुख्यमंत्री ने की धर्म गुरू, संत-महंत एवं धार्मिक संगठनों के प्रतिनिधियों से विस्तृत चर्चा
Image
दिल्ली सरकार ने सर गंगाराम अस्पताल पर दर्ज कराई एफआईआर, बेडों की कालाबाजारी का आरोप
Image
 चूरू में कोरोना / 5 साल के बच्चे समेत 10 नए पॉजिटिव मिले, इनमें 8 प्रवासी, कुल आंकड़ा 152 पर पहुंचा
Image
अब मान भी जाइए, ऐसे उमड़ेगी भीड़ तो कैसे रुकेगा कोरोना का संक्रमण
Image
नहर में मिला अज्ञात युवक का शव, पानी से बाहर निकालने से लेकर मोर्चरी में बर्फ लगाकर रखने तक का कार्य पुलिस ने ही किया
Image