धारा 144 का इतिहास और कुछ अलग बातें जानें



नागरिकता कानून और एनआरसी को लेकर देश भर में विरोध प्रदर्शन हो रहे है। उसको देखते हुए कई जगहों पर धारा 144 लगा दी गई है। आइए इसका इतिहास और कुछ खास बातें जानते हैं...


​इतिहास






कहा जाता है कि राज रत्न ईएफ देबू नाम के एक अफसर धारा 144 के शिल्पकार थे। उन्होंने ही इसके नियम बनाए थे और बड़ौदा स्टेट में 1861 में पहली बार इसका इस्तेमाल किया गया था। इसके इस्तेमाल से बड़ौदा स्टेट में अपराध पर काफी काबू पाया जा सका था। अफसर देबू को बड़ौदा के महाराजा गायकवाड़ ने स्वर्ण पदक से भी सम्मानित किया था। 





अंग्रेजों ने खूब किया इस्तेमाल





राष्ट्रवादी प्रदर्शनों पर शिकंजा कसने के लिए ब्रिटिश शासन में इसका बार-बार इस्तेमाल किया गया। गांधीजी जी इस कानून का उल्लंघन करके चंपारण सत्याग्रह को अंजाम दिया था। लेकिन धारा 144 न सिर्फ आजादी के बाद जारी रही बल्कि इसका इस्तेमाल भी खूब होता आ रहा है




​क्या है इसके तहत नियम?






​क्या है इसके तहत नियम?



सीआरपीसी की धारा 144 शांति कायम करने के लिए उस स्थिति में लगाई जाती है जब किसी तरह के सुरक्षा संबंधित खतरे या दंगे की आशंका हो। धारा-144 जहां लगती है, उस इलाके में पांच या उससे ज्यादा आदमी एक साथ जमा नहीं हो सकते हैं। धारा लागू करने के लिए इलाके के जिलाधिकारी द्वारा एक नोटिफिकेशन जारी किया जाता है। धारा 144 लागू होने के बाद इंटरनेट सेवाओं को भी आम पहुंच से ठप किया जा सकता है। यह धारा लागू होने के बाद उस इलाके में हथियारों के ले जाने पर भी पाबंदी होती है







​धारा-144 और कर्फ्यू के बीच फर्क



​धारा-144 और कर्फ्यू के बीच फर्क



ध्यान रहे कि सेक्शन 144 और कर्फ्यू एक चीज नहीं है। कर्फ्यू बहुत ही खराब हालत में लगाया जाता है। उस स्थिति में लोगों को एक खास समय या अवधि तक अपने घरों के अंदर रहने का निर्देश दिया जाता है। मार्केट, स्कूल, कॉलेज आदि को बंद करने का आदेश दिया जाता है। सिर्फ आवश्यक सेवाओं को ही चालू रखने की अनुमति दी जाती है। इस दौरान ट्रैफिक पर भी पूरी तरह से पाबंदी रहती है।







​दिक्कत क्या है?



​दिक्कत क्या है?



तक्षशिला संस्थान और विधि सेंटर फॉर लीगल पॉलिसी रिसर्च के शोधकर्ताओं ने एक शोधपत्र में धारा 144 की कमियों का उल्लेख किया है। इसके मुताबिक, 'इसके तहत पूरी तरह से प्रतिबंध लगा दी जाती है और इसको व्यापक पैमाने एवं भेदभावपूर्ण तरीके से लागू किया जा सकता है।' और सबसे बड़ी बात यह है कि इसका उल्लंघन दंडनीय अपराध है।







​क्या कहता है सुप्रीम कोर्ट?



​क्या कहता है सुप्रीम कोर्ट?



सुप्रीम कोर्ट का कहना है कि कुछ स्थिति में शांति बहाल करने के लिए इस तरह के प्रतिबंध सही हैं लेकिन इसके दुरुपयोग की भी संभावनाएं होती हैं। 2012 में रामलीला मैदान में भ्रष्टाचार रोधी प्रदर्शनों के संबंध में एक मामले में सुप्रीम कोर्ट ने कहा था, 'सार्वजनिक शांति और सौहार्द को खतरे की अवधारणा वास्तविक होनी चाहिए यह काल्पनिक या संभावना जैसी स्थिति नहीं होनी चाहिए।'







​दंगों के अलावा भी इस्तेमाल



​दंगों के अलावा भी इस्तेमाल



वैसे तो दंगे की स्थिति में धारा 144 लगाई जाती है लेकिन कई बार बहुत ही अजीब चीजों के लिए इसका इस्तेमाल किया गया। उदाहरण के लिए 2012 में दिल्ली पुलिस ने शराब की दुकानों और विक्रेताओं पर यह धारा लगा दी थी ताकि लोगों को दुकान के बाहर पीने से रोका जाए। कुछ खास प्रकार के 'मंजा' पर रोक लगाने के लिए भी इसका इस्तेमाल किया जाता है क्योंकि इससे बिजली के बाधित होने या पतंग उड़ाने वालों को करंट लगने का खतरा होता है।







Popular posts
क्या सुहागरात पर होने वाला सेक्स सहमति से होता है?
Image
कोरोना लॉकडाउन में जरूरतमंद गरीब परिवारों को राहत 1000 रुपयों के बाद 1500 रुपये की और मिलेगी सहायता
Image
गहलोत बोले- धार्मिक आधार पर लोगों को देश से बाहर करने के लिए सरकार खुद अफवाह फैला रही
Image
चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग पर्याप्त मात्रा में वेंटिलेटर एवं टेस्ट किट का इंतजाम करके रखें-हैल्थ केयर वर्कर्स हमारे अग्रिम योद्धा-बुजुर्गों का विशेष ध्यान रखा जाए-मुख्यमंत्री -अशोक गहलोत-
Image
निर्भया कांड के दोषी की दया याचिका गृह मंत्रालय को मिली, जल्द भेजी जाएगी राष्ट्रपति के पास
Image