हैदराबाद:- जिस दीवार के पीछे हुई थी घिनौनी वारदात- ग्रामीणों ने ढहा दी वह दीवार


हैदराबाद
हैदराबाद में एक महिला डॉक्टर से रेप करने के बाद निर्मम हत्या करने के चारों आरोपियों को पुलिस ने शुक्रवार को एनकाउंटर में ढेर कर दिया। वहीं टोंडूपल्ली गांव के निवासी स्थानीय लोगों ने हाइवे के पास उस दीवार को ढहा दिया, जिसके पीछे आरोपियों ने इस घिनौनी वारदात को अंजाम दिया था।


आउटर रिंग रोड पर टोल बूथ के पास बनी दीवार के विध्वंस के बारे में बताते हुए सुरेश नामक एक स्थानीय व्यापारी ने कहा, 'यह गैंगरेप के खिलाफ लोगों का गुस्सा था और उनके विरोध का तरीका था। दीवार को 50 लोगों की उग्र भीड़ ने ढहा दिया। भीड़ में गांव वाले और कुछ बाहर के लोग भी शामिल थे। गैंगरेप की घटना के 3-4 दिनों के बाद ऐसा किया गया। उम्मीद है कि इस तरह की घटना भविष्य में यहां कभी ना हो।' 


दीवार और झाड़ी नहीं होती, तो शायद बच जाती युवती'
दीवार ढहाए जाने की घटना के प्रत्यक्षदर्शी बने शंकर गौड़ ने बताया, 'हममे से किसी को भी विश्वास नहीं हो रहा है कि यह घटना हमारे घर के इतने पास हो गई। अब हमें खुशी है कि यह दीवार ढह गई। अगर दीवार नहीं रहती तो शायद युवती को बचाया जा सकता था। दीवार नहीं होने से खाली इलाका, वहां से गुजरने वालों की नजर में रहता और शायद कोई उसे बचाने आ जाता।'

गैंगरेप की घटना की वजह से वहां की बेटियां भी काफी दहशत में हैं और खुश हैं कि दीवार ढह गई। घटनास्थल के एक किलोमीटर की दूरी पर रहने वाली शाहीन बेगम ने कहा, 'जब कभी वहां से मैं गुजरती हूं तो, यह सोचकर ही कांप जाती हूं कि उस डॉक्टर के साथ क्या हुआ होगा। दीवार और झाड़ियों की वजह से पीछे कुछ नजर नहीं आता था।' 


क्या हुआ होगा। दीवार और झाड़ियों की वजह से पीछे कुछ नजर नहीं आता था।'