जीएसटी दरों में बदलाव को खबरों को सुशील कुमार मोदी ने किया खारिज


नई दिल्ली
बिहार के उप-मुख्यमंत्री और एकीकृत जीएसटी (IGST) पर मंत्री समूह के नामित संयोजक सुशील कुमार मोदी ने यहां कहा कि राजस्व प्राप्ति में स्थिरता आने तक वस्तु एवं सेवाकर (GST) की दरों में बदलाव किए जाने की कोई संभावना नहीं है। फेडरेशन ऑफ इंडियन चैंबर्स ऑफ कॉमर्स ऐंड इंडस्ट्री (फिक्की) की 92वीं वार्षिक आम बैठक को संबोधित करते हुए मोदी ने जीएसटी दर में वृद्धि को लेकर बढ़ रही आशंकाओं को दूर करते हुए कहा कि इस बारे में मीडिया में जो खबरें आ रही हैं, वे सही नहीं हैं।


कर बढ़ाने को कोई तैयार नहीं
उद्योग मंडल की वार्षिक आम बैठक के दूसरे और अंतिम दिन एक सत्र को संबोधित करते हुए सुशील मोदी ने कहा, 'मैं आपको आश्वस्त करना चाहता हूं कि केन्द्र सरकार सहित कोई भी राज्य कर की दरें बढ़ाने के लिए तैयार नहीं है।' उन्होंने कहा, 'ऐसे समय जब अर्थव्यवस्था में सुस्ती है, खपत को बढ़ावा देने के लिए आप कर की दरें कम नहीं कर सकते हैं तो कम से कम उन्हें बढ़ाया नहीं जाना चाहिए। ऐसे समय में आप दरों में कटौती करते हैं, उन्हें बढ़ाते नहीं हैं।'


राजस्व में स्थिरता आने पर विचार
जीएसटी दरों में किसी तरह की कमी की गुंजाइश के बारे में उन्होंने कहा, 'जब तक जीएसटी राजस्व में स्थिरता नहीं आती है, तब तक इसमें कटौती के बारे में हम नहीं सोच सकते हैं। वास्तव में निकट भविष्य में जीएसटी के स्लैब अथवा दरों में किसी तरह के बदलाव, उनमें कटौती अथवा वृद्धि की कोई संभावना नहीं है।'


साल में एक बार जीएसटी दर पर विचार
मोदी ने कहा कि जीएसटी परिषद ने अपनी पिछली बैठक में दरों में वृद्धि के बारे में साल में केवल एक बार विचार करने का फैसला किया। परिषद की हर बैठक में इस बारे में कोई विचार नहीं किया जाएगा। देश में मूल्य वर्धित कर (वैट) व्यवस्था लागू होने के शुरुआती दिनों को याद करते हुए सुशील मोदी ने कहा कि वह जीएसटी के क्रियान्वयन को भी नजदीकी से देख रहे हैं और आठ देशों के अनुभव से इसकी प्रक्रिया को मजबूत बना रहे हैं। उन्होंने कहा कि जीएसटी लागू होने से पहले के मुकाबले जीएसटी लागू होने के बाद 99 प्रतिशत वस्तु एवं सेवाओं पर कम शुल्क है। हालांकि, उन्होंने कहा कि नकदी बीजक एक बड़ी समस्या दिख रही है और सरकार इसे समाप्त करने के तौर तरीकों पर गौर कर रही है।


Popular posts
क्या सुहागरात पर होने वाला सेक्स सहमति से होता है?
Image
कोरोना लॉकडाउन में जरूरतमंद गरीब परिवारों को राहत 1000 रुपयों के बाद 1500 रुपये की और मिलेगी सहायता
Image
गहलोत बोले- धार्मिक आधार पर लोगों को देश से बाहर करने के लिए सरकार खुद अफवाह फैला रही
Image
चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग पर्याप्त मात्रा में वेंटिलेटर एवं टेस्ट किट का इंतजाम करके रखें-हैल्थ केयर वर्कर्स हमारे अग्रिम योद्धा-बुजुर्गों का विशेष ध्यान रखा जाए-मुख्यमंत्री -अशोक गहलोत-
Image
निर्भया कांड के दोषी की दया याचिका गृह मंत्रालय को मिली, जल्द भेजी जाएगी राष्ट्रपति के पास
Image