करगिल युद्ध के समय एक देश ने भारत को बेचा था 30 साल पुराना गोला बारूद: वीपी मलिक


चंडीगढ़
करगिल युद्ध के 20 साल बाद भी इससे जुड़े नए-नए तथ्‍य सामने आने का सिलसिला जारी है। भारतीय सेना के तत्‍कालीन प्रमुख जनरल (रिटायर) वीपी मलिक ने दावा किया है कि करगिल युद्ध के समय भारत को विदेशों से हथियार और गोला बारूद मंगाना पड़ा था लेकिन इन देशों ने मदद की बजाय बाजार की दर से बहुत ज्‍यादा दाम पर पैसा वसूला और भारत को तीन साल पुराने सैटलाइट पिक्‍चर दिए।


जनरल मलिक ने मेक इन इंडिया को लेकर आयोजित एक कार्यक्रम में कहा कि करगिल युद्ध के समय भारत को हथियार और गोला बारूद की सख्‍त जरूरत थी लेकिन इन देशों ने मदद के नाम पर घटिया सामग्री दी। उन्‍होंने कहा, 'करगिल युद्ध के समय हरेक अर्जेंट खरीदारी चाहे में वह किसी भी देश से की गई हो, उसने भारत का उतना शोषण किया जितना वह कर सकता था। हमने एक देश से कुछ तोपें मांगीं तो उसने शुरू में देने का वादा किया लेकिन उसने बाद में पुरानी तोपों को मरम्‍मत करके भारत को दे द‍िया।'


उन्‍होंने कहा, 'हमें कुछ गोला बारूद की जरूरत थी और हमने एक अन्‍य देश से संपर्क किया तो हमें 1970 के दशक के गोला बारूद दे द‍िए गए।' जनरल मलिक ने खुलासा किया कि भारत को हरेक सैटलाइट इमेज के लिए 36 हजार रुपये देने पड़े। इतना पैसा देने के बाद भी भारत को नए की बजाय 3 साल पुराने सैटलाइट इमेज द‍िए गए। मलिक ने कहा कि भारत के सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रम जरूरी हथियार नहीं दे पाते हैं, इसलिए हमें विदेशों से यह मंगाना पड़ता है। 


Popular posts
धर्म स्थल खोलने के लिए जिला कलेक्टर की अध्यक्षता में बनेगी कमेटी -मुख्यमंत्री ने की धर्म गुरू, संत-महंत एवं धार्मिक संगठनों के प्रतिनिधियों से विस्तृत चर्चा
Image
दिल्ली सरकार ने सर गंगाराम अस्पताल पर दर्ज कराई एफआईआर, बेडों की कालाबाजारी का आरोप
Image
कोटा के निजी अस्पताल में भर्ती 17 साल के लड़के की रिपोर्ट आई पॉजिटिव, इसके संपर्क में आए 5 लोगों के सैंपल लिए
Image
 चूरू में कोरोना / 5 साल के बच्चे समेत 10 नए पॉजिटिव मिले, इनमें 8 प्रवासी, कुल आंकड़ा 152 पर पहुंचा
Image
नहर में मिला अज्ञात युवक का शव, पानी से बाहर निकालने से लेकर मोर्चरी में बर्फ लगाकर रखने तक का कार्य पुलिस ने ही किया
Image