नागरिकता कानून: नॉर्थ ईस्ट में तनाव बरकरार, गुवाहाटी में आज कर्फ्यू में ढील


गुवाहाटी
नागरिकता संशोधन बिल पास होने के बाद से ही उत्तर पूर्वी राज्यों में तनाव की स्थिति है। असम, मेघालय और त्रिपुरा के हालात काफी तनावपूर्ण हैं। असम में 22 दिसंबर तक स्कूल और कॉलेजों को बंद किया गया है। सेना और पुलिस की तैनाती के बावजूद लोग कर्फ्यू का उल्लंघन कर रहे हैं। इन प्रदेशों के कई जिलों में हिंसक प्रदर्शन हुए हैं। इस बीच असम के गुवाहाटी में आज सुबह 9 बजे से शाम 4 बजे के बीच कर्फ्यू में ढील दी गई है। उधर, कोहिमा में नागा स्टूडेंट्स फेडरेशन ने आज छह घंटे के लिए बंद का आह्वान किया है।


हिंसक प्रदर्शन को नियंत्रित करने के लिए असम की राजधानी गुवाहाटी और अन्य स्थानों पर सेना और असम राइफल्स की आठ टुकड़ियां तैनात की गई हैं। रक्षा जनसंपर्क अधिकारी लेफ्टिनेंट कर्नल पी खोंगसाई ने बताया कि बिगड़ती कानून व्यवस्था को नियंत्रण में लाने के लिए गुवाहाटी के अलावा मोरीगांव, सोनितपुर और डिब्रूगढ़ जिलों के नागरिक प्रशासन ने सेना और असम राइफल्स की मांग की है। इस विधेयक के खिलाफ प्रदर्शनकारियों के हिंसा पर उतर जाने के बाद बुधवार को सेना बुलाई गई थी।


सेना की 8 टुकड़ियां तैनात
राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने शुक्रवार को इस विधेयक को मंजूरी दी जिसके बाद यह कानून बन गया है। जनसंपर्क अधिकारी ने कहा, 'अबतक कुल आठ टुकड़ियां लगायी गई हैं। इनमें एक बोगांइगांव, एक मोरीगांव, गुवाहाटी में चार और सोनितपुर में दो टुकड़ियां तैनात की गई हैं। हर टुकड़ी में करीब 70 जवान होते हैं।'

असम में कई संपत्तियों को जलाया

खोंगसाई ने बताया कि कि जहां भी सेना और असम राइफल्स की टुकड़ियां तैनात की गई हैं, वे वहां सामान्य स्थिति बहाल करने में सक्षम रही हैं। वे नागरिक प्रशासन को सहयोग करने में लगी हैं। असम अपने इतिहास के सबसे हिंसक दौरों में एक से गुजर रहा है। वहां रेलवे स्टेशन, कुछ डाकघर, बैंक, बस टर्मिनल और कई अन्य सार्वजनिक संपत्तियां जला दी गई हैं।

पश्चिम बंगाल में भी हिंसक प्रदर्शन
उधर, पश्चिम बंगाल में भी अब इस कानून के खिलाफ हिंसक प्रदर्शन शुरू हो गए हैं। कई जगह पर प्रदर्शनकारियों ने सार्वजनिक संपत्तियों को आग लगा दी। प्रदर्शनकारियों की पुलिस से भी कई जगहों पर हिंसक झड़पें हुईं। पश्चिम बंगाल के मुर्शिदाबाद जिले के बेलडांगा रेलवे स्टेशन परिसर को आग के हवाले कर दिया। प्रदर्शनकारियों ने आरपीएफ कर्मियों से भी मारपीट की। ग्रामीण हावड़ा, मुर्शिदाबाद, बीरभूम, बर्दवान के इलाके ओर उत्‍तरी बंगाल जैसे पश्चिम बंगाल के मुस्लिम बहुल इलाकों में जबर्दस्‍त प्रदर्शन हुए।

मेघालय में इंटरनेट सेवा अभी बंद
मेघालय में भी तनावपूर्ण स्थिति को देखते हुए अभी इंटरनेट सेवाओं पर रोक बरकरार है। हालांकि शिलॉन्ग में हिंसक प्रदर्शनों के बाद विभिन्न हिस्सों में लगाए कर्फ्यू में शुक्रवार को सुबह दस बजे से 12 घंटे की ढील दी गई थी। पर, मोबाइल इंटरनेट और मैसेजिंग सेवा अभी भी निलंबित है।



Popular posts
धर्म स्थल खोलने के लिए जिला कलेक्टर की अध्यक्षता में बनेगी कमेटी -मुख्यमंत्री ने की धर्म गुरू, संत-महंत एवं धार्मिक संगठनों के प्रतिनिधियों से विस्तृत चर्चा
Image
दिल्ली सरकार ने सर गंगाराम अस्पताल पर दर्ज कराई एफआईआर, बेडों की कालाबाजारी का आरोप
Image
कोटा के निजी अस्पताल में भर्ती 17 साल के लड़के की रिपोर्ट आई पॉजिटिव, इसके संपर्क में आए 5 लोगों के सैंपल लिए
Image
 चूरू में कोरोना / 5 साल के बच्चे समेत 10 नए पॉजिटिव मिले, इनमें 8 प्रवासी, कुल आंकड़ा 152 पर पहुंचा
Image
नहर में मिला अज्ञात युवक का शव, पानी से बाहर निकालने से लेकर मोर्चरी में बर्फ लगाकर रखने तक का कार्य पुलिस ने ही किया
Image