पासवान बोले- बस आ रहा प्याज, शाह की बैठक


नई दिल्ली
पूरे देश में प्याज की बढ़ती कीमतों ने आम आदमी के 'आंसू' निकाल दिए हैं, तो विपक्ष भी सरकार पर हमलावर है। तमाम कोशिशों के बाद भी प्याज सस्ता नहीं हुआ तो अब गृहमंत्री अमित शाह ने खुद मोर्चा संभाल लिया है। इसी बीच खाद्य और आपूर्ति मंत्री राम विलास पासवान ने एक के बाद कई ट्वीट कर प्याज की महंगाई की वजहें गिनाईं तो यह भी बताया कि सरकार ने अब तक क्या किया है। उन्होंने यह भी कहा कि मिस्र और तुर्की से मंगाए जा रहे प्याज की खेप 15 दिसंबर तक मिलने लगेगी।


शाह कर रहे उच्चस्तरीय बैठक
महंगे प्याज को लेकर शाम 5 बजे गृह मंत्री अमित शाह ने मंत्रियों के समूह के साथ संसद में बैठक बुलाई। बैठक में केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल, नरेंद्र सिंह तोमर, कैबिनेट सचिव राजीव गाबा और प्रधानमंत्री के सलाहकार पीके सिन्हा भी शामिल हैं।

पासवान ने कहा कि प्याज की कीमतें नियंत्रित करने के लिए सरकार हर संभव कोशिश कर रही है। बुधवार को वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने भी कहा था कि सरकार ने देश में प्याज की कीमतों को नियंत्रित करने के लिए कई कदम उठाए हैं, जिनमें इसके भंडारण से जुड़े ढांचागत मुद्दों का समाधान निकालने के उपाय भी शामिल हैं। अब प्याज को लेकर पासवान ने भी कम उत्पादन से लेकर आयात तक हर मुद्दे पर ट्वीट किए।

'सरकार कर रही कीमत नियंत्रण की कोशिशें'
पासवान ने कहा, बाजार में प्याज की बढ़ी कीमतों को नियंत्रित करने के लिए सरकार हर संभव प्रयास कर रही है। इस बार मॉनसून में एक महीने की देरी के कारण प्याज की बुवाई में देरी भी हुई और पिछले साल से कम रकबे में बुवाई हुई जिसके कारण उत्पादन घटा और नई फसल के भी बाजार में आने में देर हो रही है। वह बोले कि कर्नाटक, महाराष्ट्र और राजस्थान में काफी ज्यादा बारिश होने के कारण प्याज की फसल को काफी नुकसान पहुंचा है, जिसके कारण 26% उत्पादन कम हुआ। इसके अलावा, कई हिस्सों में बाढ़ के कारण काफी प्याज खराब हो गया और ढुलाई में परेशानी हुई।


57000 टन का बफर स्टॉक
पासवान ने कहा कि प्याज की कीमतों को नियंत्रित करने और उपलब्धता बढ़ाने के लिए सरकार ने पहली बार प्याज का 57000 टन का बफर स्टॉक बनाया और जिन राज्य सरकारों ने जब और जितने प्याज की मांग की, उनको सस्ते दर पर उतना प्याज मुहैया कराया गया। 29 सितंबर को सरकार ने प्याज के निर्यात पर पूरी तरह रोक लगा दी और इसी दिन प्याज के भंडारण पर स्टॉक लिमिट लगाई गई। स्टॉक लिमिट में दो दिन पहले फिर से संशोधन किया गया है, ताकि जमाखोरी रोकी जा सके।
सस्ता प्याज मुहैया करवा रही सरकार
पासवान ने ट्वीट कर बताया, सरकार खुद भी NAFED और NCCF के जरिए विभिन्न जगहों पर और सफल, केन्द्रीय भंडार, मदर डेयरी आदि के काउंटरों से उपभोक्ताओं को सस्ता प्याज मुहैया करवा रही है। आयात में कई सुविधाओं और रियायतों की घोषणा के कारण प्याज का आयात तेजी से बढ़ा है। MMTC के जरिए सरकार खुद भी आयात कर रही है और निजी आयातकों को भी प्रोत्साहन दिया है। अगले एक हफ्ते में आयातित प्याज बाजार में उपलब्ध हो जाएगा।

तुर्की, मिस्र से मंगाया गया प्याज
प्याज की उपलब्धता बढ़ाने के लिए MMTC ने 6090 टन प्याज मिस्र से और 11000 टन तुर्की से मंगाया है जो 15 दिसंबर से 15 जनवरी के बीच उपलब्ध हो जाएगा। तुर्की से और 4000 टन प्याज जनवरी के मध्य तक बाजार में आ जाएगा। इसके अलावा 5-5 हजार टन के तीन नए टेंडर भी निकाले गए हैं।


Popular posts
क्वारेंटाइन के उल्लंघन पर प्रषासन को अलर्ट में सहयोगी-‘‘राज कोविड इन्फो एप’’,
Image
 चूरू में कोरोना / 5 साल के बच्चे समेत 10 नए पॉजिटिव मिले, इनमें 8 प्रवासी, कुल आंकड़ा 152 पर पहुंचा
Image
बैंकों के केवाईसी फॉर्म्स में ग्राहकों को अपने धर्म का करना पड़ सकता है उल्लेख
Image
शहर में 101 मरीजों की मौतें; एसएमएस हॉस्पिटल में डॉक्टर व लैब टेक्निशियनों के संक्रमित होने से 5441 जांचें पेंडिंग
Image
 संयुक्त राष्ट्र-सुरक्षा परिषद में सीट सुरक्षित करने के लिए भारत ने कैंपेन लॉन्च किया, विदेश मंत्री बोले- वैश्विक महामारी के समय हमारी भूमिका अहम
Image