परिवार का दर्दनाक अंत: महिला ने बेटी को मारकर फांसी लगाई, पति ने सुबह ही किया था सूइसाइड


नोएडा
आर्थिक तंगी के चलते पति ने मेट्रो के आगे कूदकर जान दे दी और फिर बदहवास पत्नी ने भी इसी सदमे में पहले बेटी को फांसी लगाई और फिर खुद भी फांसी लगा ली। यह बेहद दर्दनाक घटना नोएडा के सेक्टर-128 स्थित जेपी पवेलियन कोर्ट की है। आर्थिक तंगी के चलते पहले 33 साल के भरत जे. ने शुक्रवार सुबह 11:30 बजे दिल्ली के जवाहरलाल नेहरू मेट्रो स्टेशन पर ट्रेन के आगे कूदकर खुदकुशी कर ली थी। यह खबर परिवार को मिली तो बदहवास पत्नी पति को देखने के लिए राम मनोहर लोहिया अस्पताल पहुंचीं।


पति ने आर्थिक स्थिति से तंग आकर जान दी तो पत्नी ने पति के जाने से दुखी होकर मौत को गले लगा लिया। यही नहीं अपनी जान देने से पहले पत्नी ने बच्ची को भी फांसी लगाकर मार दिया। भरत जे. की पत्नी शिवरंजनी (31) ने पहले एक कमरे में बेटी को फांसी लगाकर मार दिया और फिर दूसरे कमरे में आकर खुद भी फंदे से झूल गईं। भरत जे. अपनी पत्नी शिवरंजनी (31), बेटी जयश्रीता (5) और भाई कार्तिक के साथ यहां रहते थे। 


चैन्ने के रहने वाले भरत की बेटी जयश्रीता केजी में पढ़ती थी। वह एक चाय कंपनी में जनरल मैनेजर थे। इससे पहले वह नेपाल की राजधानी काठमांडू में बिग मार्ट में नौकरी करते थे और सितंबर में ही परिवार के साथ दिल्ली आए थे। उनका भाई दिल्ली साकेत में पायलट कोर्स में ऐडमिशन के लिए कोचिंग ले रहा है।


दिल्ली पुलिस ने शव को राम मनोहर लोहिया अस्पताल में रखा था। मृतक के भाई कार्तिक, पत्नी शिवरंजनी अस्पताल गए थे। अस्पताल से लौटने के बाद देर शाम शिवरंजनी ने जेपी पवेलियन कोर्ट में अपनी 5 वर्षीय बच्ची के साथ छत के पंखे से फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। नोएडा पुलिस के मुताबिक, प्रारंभिक जांच में मृतक भरत जे. के परिवार में तनाव के किसी कारण का पता नहीं चल सका है। हालांकि आर्थिक संकट की बात कही जा रही है। सर्कल ऑफिसर श्वेताभ पांडे ने कहा कि महिला ने हॉस्पिटल से लौटकर खुद को बेटी संग कमरे में बंद कर लिया था। मृतक के भाई ने पुलिस को बताया कि फिलहाल उनकी आर्थिक स्थिति ठीक नहीं चल रही थी। मामले की जांच जारी है। 


Popular posts
स्कूली दिनों के तीन दोस्तों के हाथ में जल, थल और नभ.. की सुरक्षा की कमान
Image
भारत-चीन में हुई लेफ्टिनेंट जनरल लेवल बातचीत
Image
 स्पेशल फ्लाइट: सरकार को फटकार / मिडिल सीट भरने पर सुप्रीम कोर्ट ने कहा- सरकार को एयरलाइंस की बजाय लोगों की सेहत की चिंता करनी चाहिए
Image
रेलवे की बेदर्द अपील- श्रमिक ट्रेनों में गर्भवती महिलाएं, बच्चे सफर न करें; सवाल- क्या इन ट्रेनों में लोग सैर पर निकले हैं? बच्चों और महिलाओं को छोड़कर मजदूर घर कैसे लौटेंगे?
Image
केन्द्र सरकार वहन करें श्रमिकों व मजदूरों को अपने-अपने राज्यों में पहुंचाने का खर्चा: पायलट
Image