राजस्थान की स्वास्थ्य सेवाएं पूरे देश में मिसाल -मुख्यमंत्री अशोक गहलोत

 

जयपुर। मुख्यमंत्री  अशोक गहलोत ने कहा है कि राजस्थान की स्वास्थ्य सेवाएं पूरे देश में एक मिसाल हैं। मुख्यमंत्री निःशुल्क दवा योजना एवं निःशुल्क जांच योजना को पूरे देश में सराहा गया है। अब 'निरोगी राजस्थान' अभियान की शुरूआत बेहतर स्वास्थ्य सेवाओं की दिशा में बड़ा कदम है। 

गहलोत बुधवार को झुंझुनूं जिले के पिलानी में कल्पवृक्ष अस्पताल एवं रिसर्च सेंटर फाउंडेशन के मल्टी स्पेशियलिटी सेवाओं के विस्तार के शुभारम्भ समारोह को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि राज्य का प्रत्येक व्यक्ति बेहतर जीवन शैली अपनाकर स्वस्थ रहे तथा बीमार होने पर उसे उच्च स्तरीय चिकित्सा सुविधाएं मिलें, इस सोच के साथ निरोगी राजस्थान अभियान का शुभारम्भ किया गया है। निरोगी राजस्थान के तहत प्रत्येक व्यक्ति का स्वास्थ्य परीक्षण किया जाएगा। 

 

मुख्यमंत्री ने कहा कि बीमारियों के इलाज में होने वाले बडे़ खर्च के कारण कोई परिवार बर्बाद नहीं हो। सरकार इस सोच के साथ स्वास्थ्य सेवाओं के क्षेत्र में कदम उठा रही है। हमारे पिछले कार्यकाल में शुरू की गई मुख्यमंत्री निःशुल्क दवा तथा निःशुल्क जांच योजना मेंं दवाओं और जांचों की संख्या और बढ़ा दी गई है। हार्ट, किडनी एवं लीवर रोगों की महंगी दवाएं भी अब निशुल्क मिल रही हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि आने वाले दिनों में राजस्थान के प्रत्येक जिले में मेडिकल कॉलेज होगा। 

 

शिक्षा, उद्यम एवं देश सेवा में अग्रणी झुंझुनूं

गहलोत ने शिक्षा के क्षेत्र में झुंझुनूं जिले में हो रहे कार्यों की सराहना की और कहा कि आजादी के पहले भी यहां शिक्षा के लिए काफी जागरूकता थी। देश सेवा के लिए यहां के घर-घर में जज्बा है और बड़ी संख्या में युवा देश की सेना में हैं। देश की अर्थव्यवस्था को मजबूत करने में यहां के उद्यमियों का बड़ा योगदान रहा है। मुख्यमंत्री ने कहा कि वर्तमान में देश की अर्थव्यवस्था कठिन दौर से गुजर रही है। देश-दुनिया के बड़े अर्थशास्त्री इस पर चिंता जाहिर कर चुके हैं। उन्होंने कहा कि हर परिस्थिति में राज्य सरकार पूरी मजबूती के साथ जनता के साथ खड़ी है। 

 

घूंघट की कैद से बाहर आएं महिलाएं

मुख्यमंत्री ने महिला सशक्तीकरण का जिक्र करते हुए कहा कि राजस्थान की महिलाओं को घूंघट की कैद से अब बाहर आना चाहिए। महिलाओं को अब इस प्रथा को त्यागना चाहिए ताकि उनकी ताकत देश के विकास में काम आ सके। उन्होंने पूर्व प्रधानमंत्री स्व. राजीव गांधी का स्मरण करते हुए कहा कि उनके प्रयासों से महिलाओं को पंचायती राज संस्थाओं में समुचित स्थान मिला।  

 

चिकित्सा एवं स्वास्थ्य राज्य मंत्री डॉ. सुभाष गर्ग ने स्वास्थ्य सेवाओं की बेहतरी के लिए मुख्यमंत्री की संवेदनशीलता एवं प्रतिबद्धता की सराहना करते की। उन्होंने बताया कि शिक्षा एवं स्वास्थ्य के क्षेत्र में आने वाले समय में बड़ी संख्या में युवाओं को रोजगार के अवसर उपलब्ध होंगे। पिलानी विधायक श्री जेपी चंदेलिया ने पीएचसी को सीएचसी में क्रमोन्नत करने पर मुख्यमंत्री का आभार व्यक्त किया। 

 

अस्पताल संचालक डॉ. अनीता बुडानिया ने अस्पताल में दी जाने वाली सुविधाओं के बारे में जानकारी दी। डॉ. करण बेनीवाल ने आभार व्यक्त किया। इस अवसर पर उप मुख्य सचेतक महेंद्र चौधरी, पूर्व मंत्री एवं विधायक डॉ. जितेंद्र सिंह,  बृजेंद्र ओला, राजेंद्र गुढ़ा, विधायक डॉ. कृष्णा पूनिया, श्री नरेंद्र बुडानिया, जिला प्रमुख सुमन रायला, आरटीडीसी के पूर्व चेयरमैन रणदीप धनखड़, नगरपालिका सभापति  हीरालाल नायक, संभागीय आयुक्त श्री केसी वर्मा, आईजी श्री एस. सेंगाथिर, जिला कलक्टर रवि जैन, एसपी श्री गौरव यादव सहित अन्य जनप्रतिनिधि, अधिकारी एवं बड़ी संख्या में आमजन मौजूद थे। 

 

13 दिव्यांगों को मोटराइज्ड ट्राईसाइकिल वितरित

कार्यक्रम के बाद मुख्यमंत्री ने सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग की एडिप योजना में 13 दिव्यांगों को मोटराइज्ड ट्राईसाइकिल प्रदान की। उन्होंने दिव्यांग मुकेश देवी को माला पहनाकर एवं शॉल ओढ़ाकर स्वागत किया। लक्ष्मी स्वयं सहायता समूह की ओर से मुख्यमंत्री को प्रतीक चिन्ह भेंट किया गया।