सीरियल बम धमाकों का दोषी 'डॉक्टर बम' कानपुर से गिरफ्तार, लखनऊ में एसटीएफ करेगी पूछताछ


लखनऊ
राजस्थान के जयपुर में सीरियल बम धमाकों का दोषी जलीस अंसारी कानपुर से गिरफ्तार कर लिया गया है। अंसारी को कानपुर से अब लखनऊ लाया गया है। डीजीपी ओपी सिंह ने बताया कि वह यूपी के रास्ते नेपाल भागने की तैयारी में था। कानपुर में एक मस्जिद से निकलते समय उसे गिरफ्तार कर लिया गया। बता दें कि अपनी परोल खत्म होने के एक दिन पहले ही लापता हो गया था। वह अजमेर जेल में उम्रकैद की सजा काट रहा है। अंसारी का नाम देश के अलग-अलग हिस्सों में 50 से ज्यादा बम धमाकों में शामिल था जिसके चलते उसे 'डॉ. बम' कहा जाने लगा।

डीजीपी ने बताया कि अंसारी से एसटीएफ पूछताछ करेगी। अंसारी पेशे से डॉक्टर है। बता दें कि उसे सबसे पहले राजधानी एक्सप्रेस में बम रखने के आरोप में सीबीआई ने गिरफ्तार किया था। जलीस के ऊपर सबसे बड़ा आरोप राजस्थान में पांच अलग-अलग जगहों पर 5 और 6 दिसंबर, 1993 को हुए बम धमाकों का था। इसके लिए वह अजमेर की जेल में उम्रकैद की सजा काट रहा था। उसके ऊपर 5 और 6 दिसंबर, 1993 को ही हैदराबाद में सीरियल ब्लास्ट के आरोप में भी केस चला लेकिन 2015 में उसे बरी कर दिया गया। हैदराबाद में कम तीव्रता वाले धमाके आईईडी से किए गए थे।

डॉ. बम के पास मिले हजारों रुपये
यूपी के डीजीपी ओपी सिंह ने बताया कि जब जलीस अंसारी को गिरफ्तार किया गया तो उसके कब्जे से 47780 रुपये, एक पॉकेट डायरी, मोबाइल फोन और आधार कार्ड बरामद मिला। डीजीपी ने यह भी बताया कि जलील अंसारी टाइम बम और टीएनटी को डेटोनेट करने का माहिर माना जाता है। अंसारी के गुमशुदा होने के बाद उत्तर प्रदेश पुलिस को पहले ही सतर्क कर दिया गया था क्योंकि उसके नेपाल के रास्ते देश से फरार हो जाने की आशंका थी।

यूं बना 'डॉ. बम'
अंसारी के ऊपर आरोप है कि देशभर में 50 से ज्यादा बम धमाकों में उसकी भूमिका थी। इसलिए उसे डॉ. बम कहा जाने लगा। उसे सबसे पहले 1994 में सीबीआई ने राजधानी एक्सप्रेस में बम लगाने के आरोप में गिरफ्तार किया था। वह पुणे के ब्लास्ट में भी आरोपी है। आरोप है कि यहां 1992 में बाबरी मस्जिद कांड के बाद उसने अपने साथियों के साथ मिलकर बम लगाए थे। सबसे ताजा फैसले में गिरणा नदी में बम धमाके का एक्सपेरिमेंट करने के अपराध में उसे मालेगांव के एक कोर्ट ने 2018 में 10 साल जेल की सजा सुनाई थी।

नमाज के लिए निकला, फिर नहीं लौटा
अंसारी मुंबई का मूल निवासी है। अंसारी को राजस्थान की अजमेर सेंट्रल जेल से 21 दिनों के परोल पर रिहा किया गया था। उसे शुक्रवार को आत्मसमर्पण करना था। एक अधिकारी ने बताया कि परोल के दौरान अंसारी को रोज सुबह 10:30 बजे से 12 बजे के बीच मुंबई के अग्रीपाडा थाने आकर हाजिरी लगाने को कहा गया था लेकिन वह गुरुवार को निर्धारित समय पर नहीं पहुंचा। दोपहर को अंसारी का 35 वर्षीय बेटा जैद अंसारी पुलिस थाने पहुंचा और पिता के लापता होने की शिकायत दर्ज कराई। वह घरवालों से नमाज पढ़ने की बात कहकर निकला लेकिन वापस नहीं लौटा।


Popular posts
क्या सुहागरात पर होने वाला सेक्स सहमति से होता है?
Image
कोरोना लॉकडाउन में जरूरतमंद गरीब परिवारों को राहत 1000 रुपयों के बाद 1500 रुपये की और मिलेगी सहायता
Image
गहलोत बोले- धार्मिक आधार पर लोगों को देश से बाहर करने के लिए सरकार खुद अफवाह फैला रही
Image
चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग पर्याप्त मात्रा में वेंटिलेटर एवं टेस्ट किट का इंतजाम करके रखें-हैल्थ केयर वर्कर्स हमारे अग्रिम योद्धा-बुजुर्गों का विशेष ध्यान रखा जाए-मुख्यमंत्री -अशोक गहलोत-
Image
निर्भया कांड के दोषी की दया याचिका गृह मंत्रालय को मिली, जल्द भेजी जाएगी राष्ट्रपति के पास
Image