चीन का आरोप, करॉना को लेकर डर पैदा कर रहा है अमेरिका


पेइचिंग
चीन ने अमेरिका पर करॉना वायरस को लेकर डर व दहशत पैदा करने का आरोप लगाया है। विदेश मंत्रालय ने सोमवार को कहा कि अमेरिका ने कोई ठोस सहायता मुहैया नहीं कराई है और इसे लेकर वह केवल दहशत पैदा कर रहा है। विदेश मंत्रालय की प्रवक्ता हुआ चुनयिंग ने कहा कि अमेरिका पहला देश है जिसने अपने दूतावास के स्टाफ को बुलाना शुरू किया और पहला देश है जिसने चीनी यात्रियों पर प्रतिबंध लगाए।


हुआ ने कहा, 'जो उसने किया है वह सिर्फ डर पैदा करेगा और इसे बढ़ाएगा, जो कि गलत उदाहरण है। ' उन्होंने साथ ही कहा कि हमें उम्मीद है कि दुनियाभर के देश विज्ञान आधारित दावों के आधार पर अपनी राय बनाएंगे।


उल्लेखनीय है कि अमेरिका में 8 लोग वायरस की चपेट में आए हैं। उसने गत शुक्रवार को करॉना को जन स्वास्थ्य आपदा घोषित करते हुए पिछले दो सप्ताह में चीन की यात्रा करने वाले विदेशी नागरिकों के देश में प्रवेश पर अस्थायी प्रतिबंध लगा दिया था। नए प्रतिबंध वायरस की चपेट में आए हुबेई प्रांत की यात्रा करने वाले अमेरिकी नागरिकों पर भी लागू होंगे। हुबेई की राजधानी वुहान में दिसंबर में कोरोना वायरस का संक्रमण फैलना शुरू हुआ था और अब यह संक्रमण दुनिया भर में फैल गया है।


विभिन्न देशों द्वारा चीन से आने वाले लोगों पर तमाम तरीके यात्रा प्रतिबंध लगाने के बावजूद यह संक्रमण 24 से अधिक देशों में फैल चुका है। विश्व स्वास्थ्य संगठन इस पहले ही वैश्विक स्वास्थ्य आपदा घोषित कर चुका है। इसकी चपेट में आने से अब तक 361 लोगों की जान चुकी है और 17,205 मामलों की पुष्टि हुई है। चीन के अलावा फिलिपिन में इससे एक व्यक्ति की जान गई है।