जयपुर / ई-मित्रों के जरिए निःशुल्क मिलेगा जन-आधार कार्ड, सम्बन्धित व्यक्ति को मोबाइल मैसेज से मिलेगी जानकारी


जयपुर। राजस्थान में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत द्वारा 18 दिसम्बर 2019 से शुभारम्भ की गई ‘जन आधार योजना 2019’ के अन्तर्गत जयपुर जिले के समस्त ग्रामीण एवं शहरी क्षेत्रों में जन आधार कार्डों के नि:शुल्क वितरण के लिए प्रक्रिया निर्धारित कर दी गई है। इस संबंध में जिला कलक्टर डॉ.जोगाराम ने जिले के सभी उपखण्ड अधिकारी, विकास अधिकारी एवं अधिशाषी अधिकारियों को निर्धारित प्रक्रिया अपनाकर त्रुटि रहित जन-आधार कार्डों को आमजन को जल्द वितरित करवाकर सुनिश्चित करने के निर्देश दिए हैं।


जन आधार कार्ड प्रिटिंग के बाद सेवा-प्रदाता द्वारा सीधे ही स्पीड-पोस्ट से भेजे जाएंगे


जिला कलेक्टर डॉ.जोगाराम ने बताया कि जन आधार कार्ड प्रिटिंग के बाद सेवा-प्रदाता द्वारा सीधे ही स्पीड-पोस्ट से या कोरियर के माध्यम से नगर निकाय, ब्लॉक मुख्यालयों पर पहुंचाए जाएंगे। इन कार्डों की डिलीवरी, ग्रामीण क्षेत्रों में विकास अधिकारी द्वारा तथा शहरी क्षेत्रों में उपखण्ड अधिकारी, अधिशाषी अधिकारी के स्तर पर प्राप्त की जाएगी। विकास अधिकारी, उपखण्ड अधिकारी, अधिशाषी अधिकारी द्वारा इन कार्डों की प्राप्ति, वितरण और त्रुटिपूर्ण कार्डों के निरस्तीकरण की कार्रवाई ऑनलाइन पूरी की जाएगी।


कार्ड में किसी प्रकार की त्रुटि अथवा डेमेज हो तो राजकॉम्प को लौटाया जाएगा


जिला कलक्टर ने बताया कि विकास अधिकारी, उपखण्ड अधिकारी, अधिषाषी अधिकारी अपने स्तर पर कार्ड वितरण की प्रक्रिया पूरी करने के लिए एक नोडल अधिकारी को नामांकित करेंगे। कार्डों की प्राप्ति उपरान्त विकास अधिकारी, उपखण्ड अधिकारी, अधिषाषी अधिकारी द्वारा गहनता से जांच करवाकर त्रुटिरहित जन-आधार कार्डाें को निवासियों को वितरित करवाने हेतु ई-मित्र संचालकों को सुपुर्द किया जाएगा। यदि किसी कार्ड में किसी प्रकार की त्रुटि अथवा डेमेज हो तो इन कार्डों को रिजेक्ट करते हुए प्रभारी  अधिकारी (कार्ड वितरण) राजकॉम्प इन्फो सर्विसेज लिमिटेड जयपुर को लौटाया जाएगा।


ई मित्र संचालकों को कार्ड लौटाने के बाद यह प्रक्रिया होगी
ई-मित्र संचालक को कार्डों की सुपुर्दगी के उपरान्त, राज्य स्तर से ऑनलाइन सिस्टम के माध्यम से संम्बन्धित निवासियों को उनके रजिस्टर्ड मोबाइल पर सम्बन्धित ई-मित्र संचालक से निःशुल्क कार्ड प्राप्त करने से सम्बन्धित संदेश भेजा जाएगा। संदेश प्राप्त होने के बाद परिवार के मुखिया, परिवार की मुखिया या परिवार का कोई भी वयस्क सदस्य, जिसकी आधार संख्या जन आधार में दर्ज हो। वे अपने अंगुलियों के निशान लगाकर अपना जन आधार कार्ड ई-मित्र संचालक से प्राप्त कर सकेगा।


यदि किसी कारण से अंगुलियों के निशान की प्रक्रिया सफल नहीं होती है तो ई-मित्र निवासी के मोबाइल पर ओटीपी के माध्यम से सत्यापन कर उसका जन-आधार कार्ड उसे सुपुर्द करेगा। ई-मित्र संचालक द्वारा निवासियों को जन आधार कार्डों के वितरण की कार्यवाही ऑनलाइन की जाएगी। जिसकी प्रक्रिया निर्धारित कर दी गई है। किसी भी निवासी परिवार को जन-आधार कार्ड के प्रथम बार वितरण पर उस परिवार से किसी प्रकार का शुल्क नहीं लिया जाएगा। जिन परिवारों के व्यक्तियों ने अभी तक जन आधार कार्ड के लिए पंजीयन नहीं करवाया है। वे किसी भी ई-मित्र के माध्यम से अपना पंजीकरण करा सकते हैं।


Popular posts
इरफान के निधन पर गहलोत का ट्वीट- वे राजस्थान के सबसे प्रतिभाशाली एक्टर्स में से एक थे, वसुंधरा राजे ने लिखा- एक एक्टर जो उत्कृष्ट थे
Image
मिलिए अभिनेत्री और मिस इंडिया बिकिनी 2015 निकिता गोखले से, जो इंस्टाग्राम सनसनी हैं
Image
धर्म स्थल खोलने के लिए जिला कलेक्टर की अध्यक्षता में बनेगी कमेटी -मुख्यमंत्री ने की धर्म गुरू, संत-महंत एवं धार्मिक संगठनों के प्रतिनिधियों से विस्तृत चर्चा
Image
दिल्ली सरकार ने सर गंगाराम अस्पताल पर दर्ज कराई एफआईआर, बेडों की कालाबाजारी का आरोप
Image
नहर में मिला अज्ञात युवक का शव, पानी से बाहर निकालने से लेकर मोर्चरी में बर्फ लगाकर रखने तक का कार्य पुलिस ने ही किया
Image