पब्लिक ट्रांसपोर्ट में महिलाओं से अश्लील हरकत, क्या रेप के दोषियों को सजा न होने से बढ़ रहे ऐसे अपराध?


नई दिल्ली
राजधानी दिल्ली में एक महिला ऐडवोकेट के सामने अश्लील हरकत करने के आरोप में 38 साल के कैब ड्राइवर को शुक्रवार को अरेस्ट कर लिया गया। अरेस्ट किए गए आरोपी का नाम सतीष शर्मा है और वह निलोठी का रहने वाला है। दिल्ली-एनसीआर में यह कोई नहीं बात नहीं है जब महिलाओं को इतने भयानक अनुभव से गुजरना पड़ा हो। पिछले दिनों दिल्ली मेट्रो में एक युवक ने महिला के सामने अपने पैंट की जिप खोल दी और वह भी उस वक्त जब शाम के सिर्फ 6 बजे थे। मामले में दिल्ली पुलिस और डीएमआरसी दोनों ने संज्ञान लिया है और आरोपी की धड़पकड़ के लिए तलाश जारी है। लेकिन इन दोनों घटनाक्रमों ने यह सोचने पर जरूर मजबूर किया है कि क्या दोषियों को सजा न मिल पाना ऐसे अपराधों को बढ़ावा दे रहा है।


कैब में बैठते अश्लीलता शुरू
पहला मामला राजधानी दिल्ली आ रही एक युवती से जुड़ा हुआ है। पुलिस के मुताबिक, महिला ने गुरुग्राम से दिल्ली हाई कोर्ट के लिए कैब ली थी। कैब में बैठते ही ड्राइवर अश्लील हरकत करने लगा जिसके बाद महिला ने पुलिस को फोन किया और लिखित में शिकायत दी। आरोपी के खिलाफ आईपीसी की विभिन्न धाराओं- 506 और 509 के तहत केस दर्ज कर उसे अरेस्ट कर लिया गया।

मेट्रो में नहीं सेफ, फिर कहां
दूसरी घटना, बुधवार शाम यलो लाइन मेट्रो में हुई जब पीड़ित महिला ने दिल्ली से गुड़गांव जा रही थी। उसके सामने खड़े एक युवक ने अपने पैंट की जिप खोल दी और अश्लील हरकतें करने लगा। पीड़िता ने पुलिस को अपनी शिकायत में बताया कि लड़के की हरकत लोग न देख पाएं उसने अपने आगे बैग रख ली और ऐसी हरकत कुछ देर तक करता रहा। महिला इतनी घबरा गई कि उस वक्त किसी से कुछ नहीं कह पाई। हालांकि, बाद में उसने पुलिस में शिकायत दर्ज कराई और सोशल मीडिया पर भी अपनी आपबीती शेयर की, जिसके बाद डीएमआरसी ने भी संज्ञान लिया।


क्या दोषियों को सजा न होने पर बढ़ता है मनोबल
16 दिसंबर, निर्भया गैंगरेप व मर्डर केस में दोषियों को अब तक फांसी नहीं हो पाई है। वे अपनी जान बचाने के लिए हर तरह के पैंतरे अपना रहे हैं। बार-बार डेथ वॉरंट जारी हो रही है और बार नए कानूनी जुगाड़ के साथ वे अपनी फांसी रुकवा रहे हैं। अपनी सजा से बचने के लिए इस तरह के जुगाड़ निठारी कांड के दोषी भी कर रहे हैं। बहुचर्चित आरुषि व हेमराज हत्याकांड का मामला भी हमारे सामने है, सजा तो छोड़िए मामले में दोष सिद्धि तक नहीं हो पाई। इन सब मामलों में कानून व न्याय व्यवस्था लाचार दिख रही है। अब अगर ये कहें कि कहीं न कहीं इस व्यवस्था से आपराधिक प्रवृत्ति के पुरुषों का मनोबल बढ़ता है तो गलत नहीं होगा। जब दोषियों को सजा नहीं होगी, तो अपराधियों की आपराधिक प्रवृत्ति को बल मिलेगा।


Popular posts
मिलिए अभिनेत्री और मिस इंडिया बिकिनी 2015 निकिता गोखले से, जो इंस्टाग्राम सनसनी हैं
Image
इरफान के निधन पर गहलोत का ट्वीट- वे राजस्थान के सबसे प्रतिभाशाली एक्टर्स में से एक थे, वसुंधरा राजे ने लिखा- एक एक्टर जो उत्कृष्ट थे
Image
धर्म स्थल खोलने के लिए जिला कलेक्टर की अध्यक्षता में बनेगी कमेटी -मुख्यमंत्री ने की धर्म गुरू, संत-महंत एवं धार्मिक संगठनों के प्रतिनिधियों से विस्तृत चर्चा
Image
नहर में मिला अज्ञात युवक का शव, पानी से बाहर निकालने से लेकर मोर्चरी में बर्फ लगाकर रखने तक का कार्य पुलिस ने ही किया
Image
भारत-चीन में हुई लेफ्टिनेंट जनरल लेवल बातचीत
Image