वर्ल्ड रेकॉर्ड: 51 लाख रुपये में बिक गई मुर्राह भैंस


हिसार
हरियाणा में हिसार जिले के लितानी गांव निवासी किसान सुखबीर ढांडा की वर्ल्ड रेकॉर्ड बनाने वाली मुर्राह नस्ल की भैंस सरस्वती को पंजाब के लुधियाना में किसान पवित्र सिंह ने 51 लाख रुपये में बेचा है। इससे पहले कई साल पहले गांव सिंघवा खास के एक किसान की मुर्राह नस्ल की भैंस लक्ष्मी 25 लाख रुपये में बिकी थी, जिसे गुजरात के एक किसान ने खरीदा था।


इस भैंस ने कुछ महीने पहले ही पंजाब के लुधियाना में डेयरी ऐंड एग्रो एक्सपो प्रतियोगिता में 33.13 किलो दूध देकर वर्ल्ड रेकॉर्ड बनाया था, जिस पर भैंस के मालिक को दो लाख रुपये का इनाम देकर सम्मानित किया गया। लितानी के किसान सुखबीर ढांडा ने भैंस की बिक्री से पहले समारोह भी किया, जिसमें हरियाणा, राजस्थान, उत्तर प्रदेश और पंजाब के सैंकड़ों किसान शामिल हुए।

पहले पाकिस्तान की भैंस के नाम था रेकॉर्ड
सुखबीर का कहना है कि वह अपनी इस भैंस को बेचना नहीं चाहते थे लेकिन आस-पास के इलाके में भैंस चोरों का गिरोह सक्रिय होने से उसे सरस्वती की चोरी का डर सताने लगा था। इससे पहले सबसे अधिक दूध देने का रेकॉर्ड पाकिस्तान की भैंस के नाम था, जिसने 32.050 किलो दूध दिया था। सुखबीर ने बताया कि उसने भैंस को एक लाख 30 हजार रुपये में चार साल पहले बरवाला के खोखा गांव के किसान गोपीराम से खरीदा था।

क्लोन की तैयारी में वैज्ञानिक
सुखबीर ने बताया कि भैंस सरस्वती का ही एक कटड़ा है, जिसका नाम नवाब है। नवाब के सीमन बेचकर वह हर साल लाखों रुपए कमा रहे हैं। उनकी सरस्वती से ही क्लोन तैयार करने की भी तैयारी वैज्ञानिक कर रहे हैं। सरस्वती से ही पैदा हुए कटड़े की कीमत चार लाख रुपये है।

उन्होंने बताया कि सरस्वती ने पिछले साल 29.31 किलो दूध देकर हिसार में पहला इनाम जीता था। हिसार के ही केंद्रीय भैंस अनुसंधान संस्थान द्वारा कराई गई एक प्रतियोगिता में भी सबसे ज्यादा दूध देकर यह भैंस अव्वल रही थी।


Popular posts
स्कूली दिनों के तीन दोस्तों के हाथ में जल, थल और नभ.. की सुरक्षा की कमान
Image
भारत-चीन में हुई लेफ्टिनेंट जनरल लेवल बातचीत
Image
 स्पेशल फ्लाइट: सरकार को फटकार / मिडिल सीट भरने पर सुप्रीम कोर्ट ने कहा- सरकार को एयरलाइंस की बजाय लोगों की सेहत की चिंता करनी चाहिए
Image
रेलवे की बेदर्द अपील- श्रमिक ट्रेनों में गर्भवती महिलाएं, बच्चे सफर न करें; सवाल- क्या इन ट्रेनों में लोग सैर पर निकले हैं? बच्चों और महिलाओं को छोड़कर मजदूर घर कैसे लौटेंगे?
Image
केन्द्र सरकार वहन करें श्रमिकों व मजदूरों को अपने-अपने राज्यों में पहुंचाने का खर्चा: पायलट
Image