यूपी से खरीदी शराब को ट्रेनों की पैंट्रीकार में बेच रहे हैं माफिया, 1 गिरफ्तार


पटना
बिहार में शराबबंदी के बीच शराब माफियाओं ने अब इसकी बिक्री के नए तरीके खोज लिए हैं। बिहार की राजधानी पटना में रेलवे पुलिस ने ट्रेन की पैंट्रीकार में शराब बेचने वाले गिरोह का पर्दाफाश किया है। पुलिस के अनुसार, इस गैंग के एक सदस्य को को राजेंद्रनगर स्टेशन के प्लैटफॉर्म नंबर 1 से अरेस्ट किया गया है। पकड़ा गया शख्स पैंट्रीकार में ही काम करता है। पुलिस टीम को शक है कि इस सदस्य के साथ और लोग भी एक संगठित गिरोह का हिस्सा हो सकते हैं, ऐसे में उससे कड़ी पूछताछ की जा रही है।


पुलिस के मुताबिक, जिस शख्स को रेलवे स्टेशन पर गिरफ्तार किया गया है, वह पटना-कुर्ला एक्सप्रेस में ड्यूटी के दौरान उत्तर प्रदेश से शराब खरीदकर इसे बिहार में बेचता था। पुलिस ने बताया कि पकड़े गए शख्स का नाम सत्येंद्र कुमार है और वह पूर्वांचल कैटरर्स नाम की एक फर्म के लिए काम करता है। सत्येंद्र के पास से रेलवे ने शराब की 4 बोतलों को भी जब्त किया है, जिन्हें बिहार में किसी तक पहुंचाने की तैयारी की जा रही थी। सत्येंद्र को गिरफ्तार कर जीआरपी के हवाले कर दिया गया है।

शराब पीने और बेचने वाले सैकड़ों लोग गिरफ्तार
दूसरी ओर बिहार की राजधानी पटना में शराबबंदी के बीच शराब बेचने वालों पर लगातार कड़ी कार्रवाई की जा रही है। पटना के जिला उत्पाद विभाग की एक रिपोर्ट के अनुसार, साल 2019-20 में पटना में शराब पीने वाले 557 और बेचने वाले 412 लोगों को अरेस्ट किया गया है। वहीं साल 2018-19 में शराब पीने के केस में 989 और बिक्री के आरोपी 351 लोग गिरफ्तार किए गए हैं। आंकड़ों के मुताबिक, साल 2018-19 में विभाग ने 7713 लीटर विदेशी और 535 लीटर देशी शराब की खेप को पटना से जब्त किया है। इसके अलावा 2019-20 में 20711 लीटर विदेशी और 977 लीटर 156 लीटर देशी शराब जब्त की गई है।