14 अप्रैल के बाद लॉकडाउन? मैनेजमेंट के लिए बन सकते हैं रेड, ऑरेंज और ग्रीन स्पॉट -स्कूल, कॉलेज बंद लेकिन शराब की दुकानों को खोला जा सकता है


नई दिल्ली
कोरोना वायरस के खतरे को देखते हुए केंद्र सरकार देश को तीन जोन में बांट सकती है। ये बंटवारा उस इलाके (जिले) में मिले कोरोना केसों के हिसाब से होगा। केंद्र सरकार को राज्य सरकारों और एक्सपर्ट्स से 14 अप्रैल के बाद भी लॉकडाउन जारी रखने के सुझाव मिले हैं। इस बीच एक सरकारी सूत्र ने यह जानकारी दी है।


रेड, येलो और ग्रीन...होंगे तीन जोन
सूत्रों का कहना है कि 14 अप्रैल के बाद बढ़ने जा रहे दूसरे चरण के लॉकडाउन के दौरान देश को कोरोना वायरस के खतरे के मद्देनजर रेड, यलो और ग्रीन सेक्टर में बांटा जा सकता है। जहां एक भी केस नहीं होगा उसे ग्रीन जोन में रख सकते हैं, वहीं जहां पर ज्यादा केसेज आएं हैं उसे रेड और कम खतरे वाले जिलों को यलो जोन में रख सकते हैं।


रेड जोन में पूरी तरह लॉकडाउन रहेगा तो ग्रीन जोन में कुछ ढील दी जा सकती है। जैसे बाहर से आने वालों पर रोक लगाते हुए वहां स्थानीय रोजगार की गतिविधियां पहले की तरह चलती रहने की छूट दी सकती है। ग्रीन जोन वाले जिलों के सरकारी दफ्तरों में पहले की तरह काम शुरू करने की व्यवस्था हो सकती है।


ग्रीन और ऑरेंज जोन में खेती से जुड़े काम को कुछ नियमों के साथ छूट मिल सकती है। वहीं एक लिमिट में हवाई, ट्रेन सफर की छूट भी मिल सकती है। दिल्ली जैसे शहरों में मेट्रो सर्विस भी चालू की जा सकती है। लेकिन यात्रियों की संख्या को सीमित रखने पर विचार हो रहा है।


स्कूल बंद, खुलेंगी शराब की दुकानें!
जिलों को जोन में बांटने की बात प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की प्रधानमंत्रियों से हुई बात के बाद सामने आई है। सूत्र ने यह भी बताया है कि 14 के बाद स्कूल और कॉलेज को बंद रहेंगे। लेकिन छोटो-मोटे उद्योग और शराब की दुकानों को फिर से खोलने की छूट दी जा सकती है। मॉल, रेस्तरां को भी अभी नहीं खोला जाएगा।


शराब की दुकानों को खोलने के चांस इसलिए ज्यादा है क्योंकि ज्यादातर राज्यों के मुख्यमंत्रियों ने इसपर जोर दिया और कहा कि राजस्व का बढ़ा हिस्सा इससे आता है। वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिए काफी घंटों चली इसी बैठक के बाद मोदी ने अधिकारियों को गाइडलाइंस बनाने का ऑर्डर दिया कि किसे छूट होगी और किसे नहीं। इन गाइडलाइंस का ऐलान सोमवार को किया जा सकता है। 
हरियाणा के 4 जिले रेड जोन घोषित
अभी केंद्र सरकार की तरफ से इसका ऐलान नहीं हुआ है लेकिन हरियाणा में यह शुरुआत कर दी गई है। हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहरलाल खट्टर ने शनिवार को कहा कि गुड़गांव समेत जिन चार जिलों में कोविड-19 संक्रमण के सबसे अधिक मामले सामने आए हैं, उन्हें ''रेड जोन'' घोषित किया जाएगा। गुड़गांव, फरीदाबाद, नूह और पलवल इस कटेगिरी में रखे जाएंगे।