कोरोना ने बदल दिया है बिहार के इस डॉक्टर दंपती के जीने का तरीका



दुनियाभर में कोहराम मचाने वाले कोरोना वायरस का कहर भारत में भी लगातार जारी है। अलग-अलग राज्यों में इस महामारी के मामले सामने आ रहे हैं। बिहार में भी कोरोना का संक्रमण बढ़ रहा है। ऐसे में छपरा के एक डॉक्टर दंपती की जिंदगी कैसे बदल गई है, आइये जानते हैं...
कोरोना ने बदल दिया है बिहार के इस डॉक्टर दंपती के जीने का तरीकाकोरोना वायरस ने छपरा के डॉक्टर दंपती की जिंदगी को पूरी तरह बदल दिया है। इस दम्पति के ऊपर बिहार के दो जिलों में कोविड-19 के मरीजों की जिम्मेवारी है, जिसका निर्वहन ये लगातार कर रहे हैं। छपरा में कोरोना उन्मूलन कार्यक्रम के नोडल पदाधिकारी सह जिला मलेरिया पदाधिकारी डॉक्टर दिलीप सिंह और पटना में पीएमसीएच में कार्यरत डॉ. राखी सिंह का पूरा शिड्यूल बदल सा गया है। कोरोना वायरस और लॉकडाउन ने इनकी जिंदगी को किस तरह प्रभावित किया है, एक नजर...


डॉ. दिलीप सिंह, छपरा में प्रभावित मरीजों के बीच व्यस्त हैं तो पीएमसीएच में महिला प्रसूति विभाग की सहायक प्रोफेसर डॉ राखी सिंह पटना में कोरोना के मरीजों के इलाज में बिजी हैं। कोरोना संकट के बाद इस दम्पती के बीच कम मुलाकात हो पा रही है और अक्सर ऑनलाइन चैट के जरिए ही दोनों एक-दूसरे का हाल ले रहे हैं।


संक्रमण के खतरे ने दोनों डॉक्टरों को अपने परिवार से अलग-थलग कर दिया है लेकिन इसके बावजूद इन्होंने अपने कर्तव्य को पूरा करने में कोई कसर नहीं छोड़ी। साथ मिलने, साथ बैठने जैसी बेसिक जरूरतों को कोरोना ने इनसे दूर कर दिया है।


डॉ. दिलीप सिंह कहते हैं कि मेडिकल सेवा में जुड़ने के बाद ऐसे हालात पहली बार देख रहे हैं लेकिन इस स्थिति से लड़ने के लिए वह पूरी तरह तैयार हैं, हालांकि इसके लिए उन्हें परिवारिक सुख का त्याग करना पड़ रहा है, बावजूद इसके पति-पत्नी के बीच शुरू से चला आ रहा सामंजस्य काफी काम आ रहा है।


डॉ राखी सिंह कहती हैं कि मीडिया में लगातार डॉक्टरों के संक्रमित होने की खबरें भी आ रही हैं जिसे देखकर डर तो लगता है। इस बीच जब छपरा में कई संक्रमित मरीजों के मिलने की खबर आई तो मन काफी घबराने लगा लेकिन मैंने इस मुश्किल घड़ी में भी डॉ. दिलीप का हौसला बढ़ाया।


डॉ राखी सिंह ने कहा कि हमारी उम्र भी ऐसी है जब कोरोना ज्यादा प्रभावित करता है। राखी सिंह कहती हैं कि मुझे अपनी फिक्र नहीं है लेकिन अपने साथ काम करने वाली नर्सों को लेकर मैं काफी फिक्रमंद हूं क्योंकि उनके साथ कई समस्याएं जुड़ी हुई है। उन्होंने कहा कि पति के स्वास्थ्य की चिंता उन्हें हमेशा परेशान करती है लेकिन उन्हें फख्र है कि इस मुश्किल घड़ी में हम दोनों पति-पत्नी मानवता की सेवा में जुटे हुए हैं क्योंकि ऐसा सौभाग्य कम लोगों को प्राप्त होता है।