अच्छी खबर: कोरोना के इलाज में 'Mw वैक्सीन' का सेफ्टी ट्रायल पूरा, अब 40 मरीजों पर होगा टेस्ट


चंडीगढ


कोरोना वायरस के खतरनाक प्रकोप से पूरी दुनिया जूझ रही है। भारत में भी इसका संक्रमण तेजी से बढ़ रहा है। इस बीच अच्छी खबर ये है कि कोरोना वायरस के मरीजों के संभावित इलाज हेतू एमडब्ल्यू वैक्सीन का सफल ट्रायल पूरा हो चुका है। हालांकि, अब एम्स, दिल्ली, भोपाल और पीजीआई चंडीगढ़ के 40 मरीजों पर इसका ट्रायल होगा। बता दें कि कोरोना वायरस को लेकर अब तक कोई दवा सामने नहीं आई है। 


चंडीगढ़ पीजीआईएमईआर के निदेशक डॉ. जगत राम ने कहा कि 'एमडब्ल्यू वैक्सीन' दवा का सेफ्टी ट्रायल पूरा हो चुका है। लेकिन इसका वास्तविक परीक्षण पीजीआई चंडीगढ़, एम्स-दिल्ली और एम्स भोपाल में 40 रोगियों पर किया जाएगा। बता दें कि बीते दिनों सेंट्रल मेडिकल एंड इंडस्ट्रियल रिसर्च की ओर से अधिकृत एमडब्ल्यू वैक्सीन के ह्यूमन ट्रायल को पीजीआई की एथिक्स कमेटी ने मंजूरी दे दी थी। 


दरअसल, एमडब्ल्यू वैक्सीन का प्रयोग इससे पहले भी पीजीआई में पल्मोनरी डिपार्टमेंट के मरीजों पर किया जा चुका है। इस दवा का इस्तेमाल टीबी, सेप्सिस जैसी बीमारियों में पहले से हो रहा है। मगर कोरोना में इसका पहली बार इस्तेमाल होगा। कोरोना के इलाज के लिए चुनी गई इस एमडब्लू वैक्सीन के असर की जांच के लिए पहले एम्स दिल्ली, एम्स भोपाल और पीजीआई में 40 कोरोना मरीजों पर ट्रायल होगा। 


देश में कोरोना वायरस की स्थिति
केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से रविवार सुबह जारी आंकड़ों के अनुसार, देश भर में कोरोना संक्रमितों की संख्या 39,980 तक पहुंच गई है और इस महामारी के कारण मरने वालों का आंकड़ा 1301 हो गया है। वहीं अब तक 10,633 लोगों को स्वस्थ होने के बाद विभिन्न अस्पतालों से छुट्टी दे दी गई है। 


Popular posts
ग्राम विकास अधिकारी को झूठी सूचना देना पडा भारी-पंचायती राज विभाग भीण्डर  ने दिये एक वार्षिक वेतन वृद्धि रोकने के आदेश
Image
योनि में डालने से पहले हम डिल्डो पर थूकते हैं, क्या कोराना वायरस फैलने का खतरा है?
Image
क्या सुहागरात पर होने वाला सेक्स सहमति से होता है?
Image
नहर में मिला अज्ञात युवक का शव, पानी से बाहर निकालने से लेकर मोर्चरी में बर्फ लगाकर रखने तक का कार्य पुलिस ने ही किया
Image
धर्म स्थल खोलने के लिए जिला कलेक्टर की अध्यक्षता में बनेगी कमेटी -मुख्यमंत्री ने की धर्म गुरू, संत-महंत एवं धार्मिक संगठनों के प्रतिनिधियों से विस्तृत चर्चा
Image