भारत देख रहा अब तक की सबसे भीषण मंदी, हमेशा के लिए खत्म हो जाएगी 10% ग्रोथ!


नई दिल्ली
रेटिंग एजेंसी एंजेसी क्रिसिल का कहना है कि भारत अब तक की सबसे खराब यानी भीषण आर्थिक मंदी की स्थिति का सामना कर रहा है। क्रिसिल के अनुमान के अनुसार चालू वित्त वर्ष में जीडीपी ग्रोथ में कुल 5 फीसदी तक गिरावट आ सकती है। सबसे खराब स्थिति चालू वित्त वर्ष की पहली तिमाही यानी अप्रैल से जून में होगी। इस दौरान जीडीपी ग्रोथ में 25 फीसदी बड़ी गिरावट आ सकती है। इधर एसबीआई की एक रिपोर्ट के मुताबिक पूर्व वित्त वर्ष की अंतिम तिमाही यानी जनवरी से मार्च-2020 के दौरान देश की ग्रोथ रेट 1.2 फीसदी रहने का अनुमान है। स्थिति में सुधार नहीं हुआ तो सरकार इस साल के अंत तक एक और आर्थिक पैकेज ला सकती है। गौरतलब है कि आरबीआई पहले ही कह चुका है कि चालू वित्त वर्ष में जीडीपी ग्रोथ नेगेटिव जोन में जा सकती है।


बड़ी गिरावट के रहें तैयार
क्रिसिल ने मंगलवार को कहा कि भारत अब तक की सबसे खराब मंदी की स्थिति का सामना कर रहा है। आजादी के बाद यह चौथी और उदारीकरण के बाद पहली मंदी है और यह संभवत: सबसे भीषण है। रेटिंग एजेंसी के अनुसार कोविड -19 संकट और लॉकडाउन से चालू वित्त वर्ष में जीडीपी ग्रोथ 5 प्रतिशत की गिरावट आने की आशंका है। चालू वित्त वर्ष पहली तिमाही, अप्रैल से जून में ग्रोथ रेट 25 प्रतिशत की बड़ी गिरवट की आंशका है। अगर तकनीकी तौर पर देखा जाए तो यह नुकसान इतना बड़ा है कि करीब 10 प्रतिशत जीडीपी स्थायी तौर पर खत्म हो सकती है। ऐसे में हमने महामारी से पहले जो ग्रोथ रेट देखी है, अगले तीन वित्त वर्ष तक उसे देखना या हासिल करना मुश्किल होगा।


रोजगार पर असर
क्रिसिल की रिपोर्ट के अनुसार चालू वित्त वर्ष की पहली तिमाही सबसे ज्यादा प्रभावित हुई। न केवल गैर कृषि कार्यों बल्कि शिक्षा, यात्रा और पर्यटन समेत अन्य सेवाओं के लिहाज से पहली तिमाही बदतर रहने की आशंका। इसका प्रभाव आने वाली तिमाहियों पर भी दिखेगा। नौकरियों और आय पर प्रतिकूल असर पड़ेगा क्योंकि इन क्षेत्रों में बड़ी संख्या में लोगों को कामकाज मिला हुआ है।


जनवरी-मार्च तिमाही पर भी असर
एसबीआई की एक रिपोर्ट के अनुसार अंतिम तिमाही के दौरान 1.2 प्रतिशत रहने का अनुमान है। जीडीपी ग्रोथ पिछले वित्त वर्ष 2019-20 में 4.2 प्रतिशत और वित्त वर्ष 2020-21 में नकारात्मक 6.8 प्रतिशत रहने का अनुमान है। राष्ट्रीय सांख्यिकी कार्यालय (एनएसओ) 29 मई को वित्त वर्ष 2020 की चौथी तिमाही के जीडीपी वृद्धि के आंकड़ों की घोषणा करेगा। पिछले वित्त वर्ष की तीसरी तिमाही में जीडीपी ग्रोथ रेट घटकर सात साल के निचले स्तर 4.7 प्रतिशत पर आ गई थी। 


Popular posts
धर्म स्थल खोलने के लिए जिला कलेक्टर की अध्यक्षता में बनेगी कमेटी -मुख्यमंत्री ने की धर्म गुरू, संत-महंत एवं धार्मिक संगठनों के प्रतिनिधियों से विस्तृत चर्चा
Image
दिल्ली सरकार ने सर गंगाराम अस्पताल पर दर्ज कराई एफआईआर, बेडों की कालाबाजारी का आरोप
Image
 चूरू में कोरोना / 5 साल के बच्चे समेत 10 नए पॉजिटिव मिले, इनमें 8 प्रवासी, कुल आंकड़ा 152 पर पहुंचा
Image
नहर में मिला अज्ञात युवक का शव, पानी से बाहर निकालने से लेकर मोर्चरी में बर्फ लगाकर रखने तक का कार्य पुलिस ने ही किया
Image
मिलिए अभिनेत्री और मिस इंडिया बिकिनी 2015 निकिता गोखले से, जो इंस्टाग्राम सनसनी हैं
Image