कोरोना संकट / दिल्ली सरकार ने केंद्र से 5 हजार करोड़ रु. की मदद मांगी, कहा- हमें उन कोरोनावॉरियर्स को सैलरी देनी है, जो संक्रमण के खिलाफ जंग लड़ रहे हैं


नई दिल्ली. कोरोना संकट के बीच दिल्ली सरकार ने केंद्र से 5 हजार करोड़ रुपये की मदद मांगी है। उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने रविवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि उनके पास स्टाफ को सैलरी देने तक के पैसे नहीं हैं। हमें उन शिक्षकों, डॉक्टर्स और दूसरे स्टाफ को सैलरी देनी है, जो कोरोनावायरस के खिलाफ जंग लड़ रहे हैं। उन्होंने बताया कि इसके लिए हमने केंद्रीय वित्त मंत्री को चिट्ठी लिखी है।


उन्होंने बताया कि कोरोना और फिर लॉकडाउन की वजह से दिल्ली सरकार का टैक्स कलेक्शन करीब 85% नीचे चल रहा है। इसलिए इस मदद की जरूरत है। यह भी कहा गया कि केंद्र की ओर से बाकी राज्यों को जारी आपदा राहत कोष से भी कोई राशि दिल्ली को नहीं मिली है।


हमें 7 हजार करोड़ रुपए की जरूरत है


उन्होंने बताया कि हमने दिल्ली सरकार के रेवेन्यू और उसके न्यूनतम खर्चे की समीक्षा की है। सैलरी और ऑफिस खर्चों के लिए न्यूनतम 3500 करोड़ रुपए हर महीने चाहिए। पिछले दो महीने से जीएसटी कलेक्शन सिर्फ 500 करोड़ रुपए हुआ है। अन्य सोर्स के साथ सरकार को 1735 करोड़ रुपए मिले हैं। हमें दो महीने के लिए 7 हजार करोड़ रुपए की जरूरत है।


Popular posts
ग्राम विकास अधिकारी को झूठी सूचना देना पडा भारी-पंचायती राज विभाग भीण्डर  ने दिये एक वार्षिक वेतन वृद्धि रोकने के आदेश
Image
योनि में डालने से पहले हम डिल्डो पर थूकते हैं, क्या कोराना वायरस फैलने का खतरा है?
Image
क्या सुहागरात पर होने वाला सेक्स सहमति से होता है?
Image
नहर में मिला अज्ञात युवक का शव, पानी से बाहर निकालने से लेकर मोर्चरी में बर्फ लगाकर रखने तक का कार्य पुलिस ने ही किया
Image
धर्म स्थल खोलने के लिए जिला कलेक्टर की अध्यक्षता में बनेगी कमेटी -मुख्यमंत्री ने की धर्म गुरू, संत-महंत एवं धार्मिक संगठनों के प्रतिनिधियों से विस्तृत चर्चा
Image