पत्नी अभी जिंदा है लेकिन पति ने शुरू की उसके अंतिम संस्कार की तैयारी


बिहार का रहने वाला एक शख्स अपनी बीमार पत्नी की गंभीर हालत को देखकर इसकदर टूट गया है कि उसने अपनी पत्नी के जिंदा रहते हुए ही उसके अंतिम संस्कार की तैयारी शुरू कर दी है। वहीं, महिला की अंतिम इच्छा बस इतनी है कि वो एक बार अपने बच्चों को देखना चाहती है, उनसे मिलना चाहती है। लेकिन उनके पति के पास इतने पैसे नहीं हैं कि वो लॉकडाउन में एंबुलेंस से अपनी पत्नी को बिहार लेकर जा सकें।
किडनी कैंसर से जूझ रही पत्नी


दरअसल, बिहार के अतुल श्रीवास्तव अपनी पत्नी बंदना और उनकी छोटी बहन के साथ मुंबई के परेल में हैं। 35 वर्षीय बंदना काफी समय से बीमार थीं, उन्हें किडनी का कैंसर है। उनकी लगातार बिगड़ती हालत को देखते हुए इलाज कराने के लिए 45 वर्षीय अतुल उन्हें लेकर 9 मार्च को मुंबई आ गए। परेल के केईएम अस्पताल में बंदना का इलाज शुरू हुआ, ऐसे में
पत्नी के इलाज में खर्च कर दिए 10 लाख रुपये


अभी पत्नी का इलाज चल ही रहा था कि कोरोना वायरस ने दस्तक दे दी। देशभर में लॉकडाउन घोषित हो गया। इस बीच अतुल की स्थिति ऐसी नहीं रही कि वो वापस बंदना को लेकर अपने घर बिहार आ सकें। करीब एक साल पहले अतुल को बंदना के कैंसर की बीमारी का पता चला। इस दौरान कपड़े का व्यापार करने वाले अतुल ने पत्नी के इलाज में करीब 10 लाख रुपये खर्च कर दिए।अपने बच्चों को आखिरी बार देखना चाहती हैं बंदना


अतुल लगातार बंदना के इलाज में जुटे रहे लेकिन उनकी तबीयत में कोई सुधार नहीं हुआ। इस बीच परेल में बंदना का इलाज कर रहे डॉक्टरों ने भी अतुल को सलाह दी कि उनकी पत्नी ज्यादा दिनों तक जीवित नहीं रहेंगी, ऐसे में वो उन्हें लेकर घर चले जाएं। वहीं बंदना भी लगातार बिगड़ रही स्वास्थ्य स्थिति के बीच एक बार अपने बच्चों से मिलना चाहती हैं। अतुल-बंदना के दो बच्चे हैं जिनकी उम्र क्रमशः 10 और 11 साल है। दोनों ही बच्चे बिहार में हैं, जबकि वो मुंबई के परेल में हैं।
पत्नी की अंतिम इच्छा भी पूरी नहीं कर पा रहे अतुल


डॉक्टरों की सलाह और पत्नी की अंतिम इच्छा के बावजूद अतुल की आर्थिक स्थिति अब ऐसी नहीं रह गई है कि वो वापस अपने घर जा सकें। उनके पास अब महज तीन हजार रुपये बच्चे हैं, जबकि परेल से पत्नी को एंबुलेंस में बिहार ले जाने के लिए करीब 70 हजार रुपये की जरूरत है। अतुल की मानें तो उनके पास इतने पैसे नहीं हैं, इसलिए वो बिहार जाने की हिम्मत नहीं जुटा पा रहे हैं। यही नहीं हालात की गंभीरता को देखते हुए अब उन्होंने खुद को कमरे में कैद कर लिया और अपनी पत्नी के अंतिम संस्कार की तैयारी शुरू कर दी है।
अतुल के पास बंदना को बिहार ले जाने के नहीं हैं पैसे


लॉकडाउन का तीसरा चरण शुरू होने के साथ ही बंदना के स्वास्थ्य में गिरावट का दौर जारी है। उन्होंने खाना-पीना छोड़ दिया है। हालांकि, उनके दिमाग में बस एक ही बात चल रही है कि उन्हें अपने बच्चों के पास जाना है। बंदना की मानें तो बस यही उनकी आखिरी ख्वाहिश है। 


Popular posts
धर्म स्थल खोलने के लिए जिला कलेक्टर की अध्यक्षता में बनेगी कमेटी -मुख्यमंत्री ने की धर्म गुरू, संत-महंत एवं धार्मिक संगठनों के प्रतिनिधियों से विस्तृत चर्चा
Image
दिल्ली सरकार ने सर गंगाराम अस्पताल पर दर्ज कराई एफआईआर, बेडों की कालाबाजारी का आरोप
Image
कोटा के निजी अस्पताल में भर्ती 17 साल के लड़के की रिपोर्ट आई पॉजिटिव, इसके संपर्क में आए 5 लोगों के सैंपल लिए
Image
 चूरू में कोरोना / 5 साल के बच्चे समेत 10 नए पॉजिटिव मिले, इनमें 8 प्रवासी, कुल आंकड़ा 152 पर पहुंचा
Image
नहर में मिला अज्ञात युवक का शव, पानी से बाहर निकालने से लेकर मोर्चरी में बर्फ लगाकर रखने तक का कार्य पुलिस ने ही किया
Image