शराब के लिए देशभर में दिखी बेताबी, सुबह से लाइन में लग गए लोग


लॉकडाउन के तीसरे चरण  में शराब की दुकानें  खोल दी गई हैं। लगभग डेढ़ महीनों से बिना शराब के जी रहे लोग इतने बेताब दिखे कि सुबह से ही ठेकों के बाहर लंबी-लंबी लाइन लग गई। देशभर में केंद्र सरकार की अनुमति से दुकानें खोली जा रही हैं। केंद्रीय गृह मंत्रालय (Home Ministry) ने साफ निर्देश दिए हैं कि इस दौरान सोशल डिस्टेंसिंग  का पूरा ख्याल रखा जाए। कई जगहों पर तो दुकानें खुलने से दो घंटे पहले ही लोग लाइन में खड़े हो गए और अपनी बारी का इंतजार करने लगे। इस दौरान सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कराने के लिए दुकानों के बाहर बैरिकेड्स लगाए गए हैं और लोगों के दूर-दूर खड़े होने के लिए पेंट से निशाना भी बनाए गए हैं। कोशिश यह है कि दुकान पर आने वाले लोग कोरोना की महामारी से बचे रहें। सामने आई तस्वीरों में देखा जा सकता है कि कहीं लोहे की तो कहीं लकड़ी की बैरिकेडिंग की गई है। जगह-जगह पुलिस भी तैनात की गई है कि इस दौरान स्थिति ना बिगड़े और कोरोना संक्रमण ना फैले।
दिल्ली में लगी एक किलोमीटर लंबी लाइन



राजधानी दिल्ली में भी शराब की दुकानें खुल गई हैं। दिल्ली के सभी जिले रेड जोन में हैं, इसके बावजूद दुकानें खोली गई हैं। दुकानों के बाहर सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करने के लिए लोगों को दूर-दूर खड़े होने के निर्देश दिए गए हैं। साथ ही जमीन पर मार्किंग भी गई है।
कर्नाटक में पूजा भी हुई


कर्नाटक में शराब की दुकानें खुलने से एक दिन पहले ही बाकायदा नारियल चढ़ाकर पूजा की गई। सामने आई तस्वीरों में देखा गया कि बांगरपेट इलाके में एक व्यक्ति हाथ में नारियल लेकर शराब की दुकान के बाहर किसी तरह की पूजा कर रहा है।
बेंगलुरु में सोशल डिस्टेंसिंग तार-तार


कर्नाटक के बेंगलुरु शहर में शराब लेने उमड़ी भीड़ सोशल डिस्टेंसिंग ही भूल बैठी। कई तस्वीरों में लोगों को एकदम पास-पास खड़े देखा गया। तमाम निर्देशों को बावजूद ना तो दुकान के बाहर ना कोई मार्किंग दिखाई दी, ना ही लोग सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते दिखे।
बिलासपुर में रैली जैसा हाल



 


छत्तीसगढ़ के बिलासपुर में शराब लेने के लिए लगी लाइन पूरे मैदान में फैल गई। रस्सी से बनाई गई लाइन में लोग दूर-दूर तो दिखे लेकिन लोगों की संख्या काफी ज्यादा थी।
लखनऊ में भी दिखी बेसब्री


रेड जोन वाले लखनऊ में भी शराब लेने के लिए लोग दुकान खुलने से पहले ही पहुंच गए। यूपी सरकार ने सभी जोन में शराब की दुकानें खोलने की परमिशन दे दी है।
हुबली में 7 बजे ही लग गई लाइन


कर्नाटक के हुबली में सुबह सात बजे से ही शराब की दुकानों के बाहर लाइन लग गई थी। दरअसल, सरकारों को शराब की बिक्री से सैकड़ों करोड़ों की आमदनी होती है। लॉकडाउन में यह आमदनी बंद हो गई थी। ऐसे में सबसे पहले शराब की दुकानों को परमिशन दे दी गई है। दुकानें खुलने के साथ ही लंबी-लंबी लाइनें भी लग गईं।
रायपुर में भी लगी लाइन


रायपुर में शराब की दुकानें खुलने से पहले ही लाइन लग गई। केंद्र सरकार के नियमों के मुताबिक, सुबह 9 बजे से शाम 7 बजे तक दुकानें खोली जा सकती हैं। हालांकि, लंबे समय से बिना शराब के रह रहे लोग काफी बेताब दिखे और जल्दी शराब लेने के लिए एकदम सुबह ली लाइन में लग गए।
रायपुर में मुंह ढककर निकले लोग


लॉकडाउन के दौरान सख्त हिदायत दी गई है कि सार्वजनिक जगहों पर बिना मास्क लगाए या मुंह ढके ना जाएं। छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर में एक शराब की दुकान पर आए लोगों ने इस नियम का पूरी तरह से पालन किया। जिन लोगों के पास मास्क नहीं थे, उन्होंने रुमाल या गमछे से अपना चेहरा ढक रखा था।
कर्नाटक में पुलिस भी मौके पर मौजूद


लॉकडाउन 3 के पहले दिन खुल रही दुकानों और बाजारों में स्थिति बेकाबू ना हो इसके लिए पुलिस भी तैनात की गई है। शराब की दुकानों के बाहर भी सोशल डिस्टेंसिंग और लॉकडाउन के नियमों का पालन कराने के लिए पुलिस मौजूद है।
बैरिकेडिंग से सोशल डिस्टेंसिंग


कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए सोशल डिस्टेंसिंग जरूरी है। इसी के मद्देनजर शराब की दुकानों के बाहर बैरिकेडिंग लगाकर लाइन लगाने की व्यवस्था की गई है। साथ ही जमीन पर भी पेंट से निशाना बनाए गए हैं कि लोग उन्हीं निशानों पर खड़े हों और एक-दूसरे से दूरी बनाए रखें।
बंद होते समय भी उमड़ी थी भीड़


कोरोना के खतरे के कारण मार्च में जब लॉकडाउन की घोषणा की गई थी, तब भी ठीक इसी तरह भीड़ उमड़ी थी। लॉकडाउन में शराब की दुकानें भी बंद होनी थीं इसलिए लोगों ने शराब का स्टॉक भी जमा कर लिया था।


Popular posts
स्कूली दिनों के तीन दोस्तों के हाथ में जल, थल और नभ.. की सुरक्षा की कमान
Image
भारत-चीन में हुई लेफ्टिनेंट जनरल लेवल बातचीत
Image
 स्पेशल फ्लाइट: सरकार को फटकार / मिडिल सीट भरने पर सुप्रीम कोर्ट ने कहा- सरकार को एयरलाइंस की बजाय लोगों की सेहत की चिंता करनी चाहिए
Image
रेलवे की बेदर्द अपील- श्रमिक ट्रेनों में गर्भवती महिलाएं, बच्चे सफर न करें; सवाल- क्या इन ट्रेनों में लोग सैर पर निकले हैं? बच्चों और महिलाओं को छोड़कर मजदूर घर कैसे लौटेंगे?
Image
केन्द्र सरकार वहन करें श्रमिकों व मजदूरों को अपने-अपने राज्यों में पहुंचाने का खर्चा: पायलट
Image