तालाब से मछली की जगह निकले 500-2000 रुपये के नोट, गांव में दहशत


खंडवा।
मछली पकड़ने गए एक बालक ने जब तालाब के पानी में कांटा डाला तो मछली की जगह नोट से भरी हुई पोटली निकली। पोटली में 5 सौ और 2 हजार के नोट थे। इस दौरान कुछ नोट तेज हवा के कारण आसपास की झाड़ियों में बिखर गए। वह कुछ नोट उठाकर घर ले गया।


तालाब किनारे पेड़ की शाखाओं और आसपास बिखरे नोटों की खबर गांव में आग की तरह फैली और तालाब किनारे भीड़ जमा हो गई। इसकी सूचना ग्रामीणों ने पुलिस को दी। मौके पर पहुंची पुलिस ने नोटों को सैनिटाइज कर जप्त कर लिया है। घटना खंडवा जिले पंधाना थाना क्षेत्र के आरुद गांव की है। ग्रामीणों के अनुसार सोमवार सुबह एक वाहन चालक तालाब किनारे कुछ फेंक कर चला गया। जिसे मॉर्निंग वॉक करने निकले युवक ऋषि कनाडे ने देखा था। लेकिन उसने इसे गंभीरता से नहीं लिया।तालाब के किनारे भीड़
युवक मॉर्निंग वॉक से वापस लौटा तो तालाब किनारे भीड़ लगी देख, उसे पता चला कि कोई कपड़े में रुपये को लपेटकरफेंक गया है। मछली पकड़ने गए बालक के परिजन कालू मछुआरे ने बताया कि बेटे ने जब तालाब के पानी में कांटा डाला तो मछली की जगह नोट से भरी हुई पोटली निकली, जिसमें से कुछ नोट उठाकर वह घर ले गया।


युवक की तलाश शुरू
मछूआरे ने घर में रखे नोट को पुलिस के हवाले कर दिया है। ग्रामीणों से पूछताछ के आधार पर पुलिस तालाब में नोट फेंकने वाले युवक की तलाश शुरू कर दी है। तालाब किनारे से पुलिस ने 12 नोट 500 के और 2 नोट 2000 के बरामद किए हैं। इस घटना के बाद गांव के लोग डरे हुए हैं।इस मामले में पंधाना थाना इंचार्ज प्रशिक्षु डीएसपी केतन एच अड़लक ने कहा कि सूचना पर पहुंची पुलिस ने रुपयों को बरामद किया है।500 और 2000 हजार के नोट हैं, जिसमें कुछ के किनारे जले हुए हैं। पंधाना पुलिस मामले की जांच कर रही है। 


Popular posts
दिल्ली सरकार ने सर गंगाराम अस्पताल पर दर्ज कराई एफआईआर, बेडों की कालाबाजारी का आरोप
Image
 चूरू में कोरोना / 5 साल के बच्चे समेत 10 नए पॉजिटिव मिले, इनमें 8 प्रवासी, कुल आंकड़ा 152 पर पहुंचा
Image
अब मान भी जाइए, ऐसे उमड़ेगी भीड़ तो कैसे रुकेगा कोरोना का संक्रमण
Image
नहर में मिला अज्ञात युवक का शव, पानी से बाहर निकालने से लेकर मोर्चरी में बर्फ लगाकर रखने तक का कार्य पुलिस ने ही किया
Image
धर्म स्थल खोलने के लिए जिला कलेक्टर की अध्यक्षता में बनेगी कमेटी -मुख्यमंत्री ने की धर्म गुरू, संत-महंत एवं धार्मिक संगठनों के प्रतिनिधियों से विस्तृत चर्चा
Image