कोरोना संकट में श्रमिकों को संबल-मनरेगा बनी वरदान, जिले में एक लाख से अधिक श्रमिकों का नियोजन


बारां। वैश्विक महामारी कोरोना आपदा के दौर में महात्मा गांधी नरेगा योजना श्रमिकों के वरदान साबित हो रही है जिसके चलते आर्थिक रूप प्रभावित लोगों को रोजगार मिला है और जिले में प्रतिदिन लगभग लगभग 2 करोड़ रूपए श्रमिकों को इस योजना के तहत मिल रहे हैं। कोरोना संकट में गरीब को संबल देने वाली महानरेगा योजना के तहत जिले में 1 लाख 9 हजार 444 श्रमिक नियोजित है जिससे जिले में गरीब को काम व आर्थिक स्वावलम्बन मिला है।
जिला कलक्टर इन्द्र सिंह राव ने बताया कि कोरोना संकट से कई लोग आर्थिक रूप से प्रभावित हुए हैं जिनकों आर्थिक संबल प्रदान करने की आवश्यकता थी। राज्य सरकार द्वारा ग्रामीण क्षेत्रों को आर्थिक रूप से स्वावलम्बन प्रदान करने के लिए कोरोना संकट के तहत सोशल डिस्टेंस, मास्क लगाने, हाथ धोने व स्वास्थ्य मानकों की पालना के साथ महात्मा गांधी नरेगा योजना के तहत लोगों को रोजगार प्रदान कर कई समस्याओं का समाधान कर दिया है इस योजना के तहत प्रवासी मजदूरों को भी जोड़ा गया है जिससे उन्हें काम के बदले प्रतिदिन मजदूरी प्राप्त हो रही है।


Popular posts
ग्राम विकास अधिकारी को झूठी सूचना देना पडा भारी-पंचायती राज विभाग भीण्डर  ने दिये एक वार्षिक वेतन वृद्धि रोकने के आदेश
Image
योनि में डालने से पहले हम डिल्डो पर थूकते हैं, क्या कोराना वायरस फैलने का खतरा है?
Image
क्या सुहागरात पर होने वाला सेक्स सहमति से होता है?
Image
नहर में मिला अज्ञात युवक का शव, पानी से बाहर निकालने से लेकर मोर्चरी में बर्फ लगाकर रखने तक का कार्य पुलिस ने ही किया
Image
धर्म स्थल खोलने के लिए जिला कलेक्टर की अध्यक्षता में बनेगी कमेटी -मुख्यमंत्री ने की धर्म गुरू, संत-महंत एवं धार्मिक संगठनों के प्रतिनिधियों से विस्तृत चर्चा
Image